वैश्विक चुनौतियों के बावजूद देश की दीर्घकालीन वृद्धि की स्थिति मजबूत: रिपोर्ट

Samachar Jagat | Friday, 02 Nov 2018 02:57:36 PM
Despite the global challenges, the country's long-term growth situation is strong

नई दिल्ली। वैश्विक चुनौतियों के साथ रुपए की विनिमय दर में गिरावट तथा तेल के ऊंचे दाम के बावजूद देश की दीर्घकालीन वृद्धि दर की संभावनाएं मजबूत बनी हुई हैं। एक रिपोर्ट में यह कहा गया है। डन एंड ब्राडस्ट्रीट की रिपोर्ट के अनुसार बैंकों, कंपनियों तथा सरकार का वित्तीय लेखा जोखा दबाव में बना हुआ है। बैंकों की वसूली में फंसी सम्पत्ति काफी ऊंची हो गई है। डन एंड ब्राडस्ट्रीट इंडिया के प्रमुख अर्थशास्त्री अरूण सिंह ने कहा, विदेशी मुद्रा भंडार में कमी, विदेशी निवेश की निकासी, चालू खाते के घाटे में वृद्धि, रुपए की विनिमय दर में गिरावट तथा वैश्विक बाजार में कच्चे तेल के दाम में वृद्धि के कारण देश के बाह्य क्षेत्र के लेखे-जोखे का संतुलन गड़बड़ाया हुआ है।

जिन क्षेत्रों में संपत्ति दबाव में है, उसमें इंजीनियरिंग, बुनियादी ढांचा तथा निर्माण शामिल हैं। इससे इनके कर्ज की अदायगी और मुनाफ़े पर असर पड़ा है। रिपोर्ट के अनुसार लगातार दूसरी तिमाही जुलाई-सितंबर में पूंजी प्रवाह नकारात्मक बना हुआ है। विदेशी निवेशक भी भारतीय बाजार से बाहर निकल रहे हैं। साथ ही कर्ज दबाव बढ़ने, रुपए में मूल्य ह्रास तथा वैश्विक बाजार में कच्चे तेल के दाम में लगातार वृद्धि से वस्तु व्यापार घाटा ऊंचा रह सकता है।

रिपोर्ट के मुताबिक जब तक भू-राजनीतिक मुद्दों तथा व्यापार युद्ध को लेकर चिंता दूर नहीं होती, ये मुद्दे बने रह सकते हैं।’’ हालांकि रिपोर्ट में यह भी कहा कि वैश्विक चुनौतियों के बावजूद देश की दीर्घकालीन वृद्धि की कहानी मजबूत बनी हुई है। सिंह ने कहा, वृद्धि की गति जारी रखने के लिए यह समय निवेश बढ़ाने का है क्योंकि इससे कार्यबल में शामिल होने वाले लाखों लोगों के लिए प्रत्यक्ष रूप से रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। साथ ही परोक्ष रूप से खपत मांग बढ़ेगी जिससे वृद्धि को गति मिलेगी।-एजेंसी
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.