सड़क सुरक्षा संबंधी लंबित विधेयक को शीघ्र पारित कराए सरकार: कंज्यूमर वॉयस

Samachar Jagat | Saturday, 21 Apr 2018 03:48:42 PM
Government passed the urgent passage of the pending road safety bill: Consumer Voice

नई दिल्ली। सरकार से सड़क सुरक्षा में सुधार के लिए संयुक्तराष्ट्र में पारित प्रस्ताव पर भारत में अमल कराए जाने की अपील करते हुए स्वयंसेवी संगठन कंज्यूमर वॉयस ने सड़क सुरक्षा संबंधी लंबित विदेशक को शीघ्र पारित कराने का सुझाव दिया है। कंज्यूमर वायस ने सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से सड़क सुरक्षा संबंधी लंबित विधेयक को शीघ्र पारित कराने की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा है कि इससे सड़क दुर्घटनाओं को कम करने में मदद मिलेगी।

वैवाहिक मौसम के मद्देनजर सोने-चांदी की चमक बढ़ी

संगठन ने राज्य सभा के सभापति वैंकेया नायडू को पत्र लिख कर लंबित मोटर वाहन संशोधन विधेयक-2017 को आगामी सत्र में पारित कराने की मांग की है। संगठन ने भारत में सड़क दुघटनाओं में हर साल लाखों लोगों के हताहत होने का उल्लेख किया है। देश में हर रोज सड़क दुघर्टनाओं के चलते औसतन 400 से अधिक लोगों की जान जाती है जबकि सुरक्षात्मक उपायों से इसका बचाव किया जा सकता है। वर्ष 2016 में भारत में सड़क दुर्घटनाओं में 1,50,785 लोगों की मौत हुई थी।

कंज्यूमर वॉयस के मुख्य परिचालन अधिकारी आशिम सान्याल ने कहा, ''विधेयक पारित करने में हो रही हर एक दिन की देरी रोजाना 400 से अधिक देशवासियों को सड़क दुर्घटनाओं में मौत के मुंह में धकेल रही है। सरकार को सड़क सुरक्षा पर संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रस्ताव को अपनाना चाहिए।"

पेट्रोल की कीमत दूसरे उच्चतम स्तर पर

संगठन ने कहा है कि सड़क सुरक्षा पर संयुक्तराष्ट्र महासभा में 'विश्व में सड़क सुरक्षा में सुधार' पर हाल में पारित प्रस्ताव में 'सुड़क सुरक्षा को वैश्विक विकास का एक मुख्य घटक माना गया है। संयुक्तराष्ट्र के स्वस्थ विकास के लक्ष्यों में विश्व में सड़क दुर्घटनाओं में 2020 तक मौत में 50 प्रतिशत तक की कमी लाने और लोगों को सुरक्षित, सस्ती और स्वस्थ परिवहन व्यवस्था सुलभ कराना शामिल है।

उल्लेखनीय है कि विश्व में सड़क दुर्घटनाओं में हर साल 13 लाख से अधिक लोग मरते हैं। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक 2016 में भारत में 4,80,652 सड़क दुर्घटनाएं हुईं जिनमें 1,50,785 लोग मारे गये और 4,94,625 लोग घायल हो गए।- एजेंसी

उभरते हुए और विकासशील देशों में 70 करोड़ से अधिक कामगार गरीबी में जी रहे हैं : आईएलओ

पीएनबी 'गांधीगिरी' से डूबे कर्ज को निकालने की मुहिम तेज करेगा

विदेशी मुद्रा भंडार 426.08 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2021 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.