Astro Gyan: चैत्र अमावस्या है इस बार बेहद खास, बन रहे हैं कई दुर्लभ योग, नोट करें शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

Samachar Jagat | Thursday, 31 Mar 2022 03:20:02 PM
Religious / When is Chaitri Amas, 31st April 1st? Know the correct date and importance of Amas

चैत्री अमास के दिन करें पिता की विशेष पूजा, होंगे अनेक लाभ

चैत्री आमस कब है?

  • आमस 31 अप्रैल से 1 अप्रैल को सुबह 11 बजे तक
  • माता-पिता से विशेष कृपा प्राप्त करने का अवसर

कुछ लोग चैत्र माह में कृष्ण पक्ष की अमास तिथि को लेकर असमंजस में रहते हैं। कुछ लोग 31 मार्च को अमावस्या मनाते हैं और कुछ लोग 1 अप्रैल को अमावस्या मनाते हैं। बता दें कि 31 मार्च को अमास की तिथि दोपहर 12 बजे से शुरू होकर 1 अप्रैल के दूसरे दिन सुबह 11 बजे तक चलेगी. ऐसे में कुछ लोग 31 मार्च को अमास कर रहे हैं तो कुछ लोग 1 अप्रैल को अमास कर रहे हैं.

अमास दोनों दिन है

ज्योतिषियों के अनुसार अमास दोनों दिन होगा। श्राद्ध कर्म का अमास 31 मार्च को मनाया जा रहा है और 1 अप्रैल को स्नान और दान का अमास मनाया जा रहा है। अमास के दिन पितरों को विशेष श्रद्धांजलि देना जरूरी है। कहते हैं इस दिन पितरों की पूजा करने से घर में उनकी कृपा बनी रहती है. गुरुवार 31 मार्च को अमावस्या श्राद्ध कर्म और स्नान और दान के लिए उपयुक्त है, शुक्रवार को अमावस्या भी उपयुक्त होगी।

क्या समय हुआ है?

  • अमावस्या तिथि 31 मार्च को दोपहर 12 बजकर 22 मिनट पर शुरू होगी.
  • 01 अप्रैल को प्रातः 11.53 बजे अमावस्या समाप्त हो रही है।
  • ब्राह्मी योग- सुबह 09 से 37 मिनट। इसके बाद इंद्रयोग शुरू होगा।
  • सर्वार्थ सिद्धि योग - 10:40 पूर्वाह्न से 06:10 पूर्वाह्न, 02 अप्रैल
  • अभिजीत मुहूर्त - दोपहर 12:00 बजे से दोपहर 12:50 बजे तक
  • अमृत ​​सिद्धि योग - 10:40 पूर्वाह्न से 06:10 पूर्वाह्न, 02 अप्रैल

अमास का क्या महत्व है?

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन व्रत और चंद्र देव की पूजा करने से सौभाग्य और समृद्धि की प्राप्ति होती है। इस दिन पवित्र नदियों और झीलों में स्नान करना बहुत महत्वपूर्ण है।हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन को सुख, समृद्धि और परिवार कल्याण के लिए पूजा जाता है। इस दिन पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि आती है और लोगों की रक्षा होती है। इस दिन पितरों की भी पूजा की जाती है। ऐसी भी मान्यता है कि इस दिन उपवास करने और चंद्रमा की पूजा करने से चंद्र देव प्रसन्न होते हैं और उन्हें सौभाग्य और समृद्धि का आशीर्वाद देते हैं। इससे व्यक्ति को मानसिक शांति मिलती है। कहा जाता है कि इस तिथि को पिता धरती पर आते हैं और अपने परिवार के सदस्यों को आशीर्वाद देते हैं। इसलिए इस तिथि पर पितरों के लिए प्रार्थना की जाती है। पिता की उपासना के कारण इस अमास को श्राद्ध अमास भी कहा जाता है। पितृसत्तात्मक अपराध बोध से मुक्ति पाने के लिए इस दिन पितृसत्तात्मक प्रसाद, स्नान, दान आदि करना बहुत पुण्य और फलदायी माना जाता है।



 

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.