दक्षिण एशियाई लोगों की सैकड़ों पहचान, सभी को संरक्षित किया जाना चाहिए : फातिमा भुट्टो

Samachar Jagat | Friday, 10 May 2019 10:49:57 AM
Hundreds of South Asian people should be protected, all should be protected: Fatima Bhutto

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

सिडनी। पाकिस्तान की प्रख्यात लेखिका फातिमा भुट्टो ने कहा है कि दक्षिण एशियाई लोगों की सैकड़ों पहचान है और हमें इन सभी पहचानों को संरक्षित रखने के लिए लड़ाई लड़नी चाहिए। उनका मानना है कि कट्टरप‍ंथियों से लड़ने के लिए एक संस्कृति से अधिक के सह-अस्तित्व को स्वीकारना जरूरी है। 

सुप्रीम कोर्ट ने दी राहुल गांधी को राहत, दोहरी नागरिकता वाली याचिका की खारिज

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत जुल्फिकार अली भुट्टो की पोती ने पीटीआई-भाषा से अपनी नई पुस्तक द रनअवेज के बारे में बात की। उन्होंने युवा लोगों के कट्टरपंथी बन जाने के कारणों और आज के विस्फोटक कट्टरपंथ में पश्चिम की जवाबदेही पर बात की। आज के वक्त में युवाओं के कट्टरपंथी हो जाने और उनके आईएसआईएस में शामिल होने की वजहें पूछने पर वह कहती हैं कि उनके विचार में आज पूरे विश्व में बड़े पैमाने पर अलगाव की भावना है।

वैश्विकरण के वादे अब झूठ लगने लगे हैं - गरीबों का उत्थान नहीं हो रहा। उन्होंने कहा कि गरीबों को कम सुरक्षित स्थितियों में रहने को मजबूर किया जा रहा है। नौकरी पाना और सम्मान एवं गरिमा के साथ जीना मुश्किल होता जा रहा है। जिन जगहों पर इन लोगों को भविष्य के लिए दूरदर्शिता नहीं उपलब्ध कराई जाती वे किसी भी तरह के विजन पर यकीन कर लेते हैं। 

श्रीलंका हत्याकांड की आईएसआईएस की ओर से जिम्मेदारी लेने और क्या उसका ध्यान अब दक्षिण एशिया की तरफ जा रहा है, यह पूछने पर भुट्टो ने कहा कि दक्षिण एशिया की संपदा बहुलता, समानता की है। विश्व के इस हिस्से ने कई खूबसूरत धर्मों, विरासतों एवं संस्कृतियों को अपनाया है। उन्होंने कहा कि इसी अपनत्व एवं स्वीकार्यता को कट्टरपंथी बर्बाद करना चाहते हैं और हमें पूरे दिल से इसे रोकना चाहिए। 

नामदार नौसैनिक बेड़े का इस्तेमाल मौज मजे के लिए करते हैं,कामदार आतंक पर हमले में : जेटली

साथ ही उन्होंने कट्टरपंथ के पीछे धर्म नहीं बल्कि राजनीति को अहम कारण माना और इसके लिए शिकागो यूनिवर्सिटी के एक प्रोफ़ेसर के अध्ययन का हवाला दिया। आतंकवाद के दोषी पाए गए लोगों से उनकी नागरिकता छीन लेने से चीजें दुरुस्त हो पाएंगी, इस सवाल पर भुट्टो ने कहा कि इससे कुछ नहीं बदलेगा और आव्रजक पृष्ठभूमि के लोगों में एक गलत संदेश जाएगा।

उन्होंने कहा कि भले ही ऐसे लोग अपराधी हों लेकिन उन्होंने इन देशों में जन्म लिया, यहां पले-बढ़े और उन्हें यहीं कट्टर बनाया गया। उन्हें न्याय के समक्ष लाया जाना चाहिए, मुकदमा चला कर सजा दी जानी चाहिए और पश्चिम में ही उनका पुनर्वास होना चाहिए। 

loading...


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.