वाराणसी में महाशिवरात्रि पर उमड़ा शिवालयों में श्रद्धालुओं का सैलाब

Samachar Jagat | Tuesday, 13 Feb 2018 11:19:00 AM
Pilgrimage of pilgrims on the Maha Shivaratri in Varanasi

वाराणसी। उत्तर प्रदेश की धार्मिक नगरी वाराणसी में आज महाशिवरात्रि पर्व पर विश्व प्रसिद्ध श्री काशी विश्वनाथ मंदिर सहित अन्य शिवालयों में भक्तों का सैलाब उमड़ा पड़ा और चाकचौबंद सुरक्षा व्यवस्था के बीच देशी-विदेशी श्रद्धालु गंगा स्नान के बाद बाबा भोले का जलाभिषेक कर दर्शन-पूजन किया। श्री काशी विश्वनाथ मंदिर से चंद कदमों की दूरी पर स्थित ऐतिहासिक दशाश्वमेध, शीतला एवं असि घाट के अलावा कई गंगा घाटों पर तड़के चार बजे से ही श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगाते नजर आए। हजारों की संख्या में शिव भक्त गंगा जल लेकर श्री काशी विश्वनाथ मंदिर सहित कई शिवालयों के बाहर कतारों में खड़े हर-हर महादेव का जयकारे लगाते हुए अपनी बारी आने का इंतजार कर रहे हैं।

इस राक्षस की वजह से यहां पर मिलता है पितरों को मोक्ष!

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में अतिविशिष्ट (वीआईपी) एवं श्रेणीबद्ध सुरक्षा प्राप्त व्यक्तियों के दर्शन के लिए रात में दो घंटे का समय निर्धारित किया गया है। वे रात आठ से 10 बजे के दौरान बाबा का दर्शन-पूजन कर सकते हैं। उनके लिए बांस फाटक प्रवेश द्बार से मंदिर परिसर में आने-जाने की व्यवस्था की गई है। पुलिस अधीक्षक आर के भारद्बाज ने आज यहां बताया कि शिवालयों एवं गंगा घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। शहरी इलाके में भारी वाहनों की अवाजाही 14 फरवरी की रात नौ बजे तक प्रतिबंधित कर दिया गया है।

शिव का अंश ही था उनका सबसे बड़ा दुश्मन

There are different types of shiveling, please according to the wish.

मंदिरों एवं घाटों की ओर जाने वाले मार्गों पर यातायात व्यवस्था में बदलाव किए गए हैं। काशी विश्वनाथ मंदिर भक्तों के आने-जाने के रास्तों पर चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात किए गए। सीसीटीवी एवं ड्रोन कैमरों से सुरक्षा निगरानी की जा रही है। घाटों पर विशेष तौर से गोताखोरों को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं। 

पुलिस अधीक्षक (यातायात) सुरेश चंद्र रावत ने बताया कि महाशिवरात्रि पर्व मुख्य रुप से आज मनायी जा रही है, लेकिन कल भी बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के पूजा-अर्चना के लिए शिवालयों में आने की संभावना है। इसे देखते हुए सुरक्षा एवं यातायात व्यवस्था की गई है। शिवालयों के आसपास वाहनों की पार्किंग की समुचित व्यवस्था की गई है। मैदागिन से गोदौलिया होते हुए रामापुरा तथा इसी प्रकार रामापुरा, मैदागिन से गोदौलिया तक सम्पूर्ण मंदिर मार्गों पर 14 फरवरी की रात नौ बजे तक नो-व्हेकिल जोन घोषित किया गया है।-एजेंसी 

शास्त्रों के अनुसार क्यों नहीं लगाना चाहिए झाड़ू को पैर

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.