युवावस्था में किए गए इन कार्यों की वजह से व्यक्ति को अंतिम समय में होती है पीड़ा

Samachar Jagat | Monday, 28 Nov 2016 12:27:24 PM
युवावस्था में किए गए इन कार्यों की वजह से व्यक्ति को अंतिम समय में होती है पीड़ा

जब इंसान की मृत्यु होती है तो उस समय उसे बेहद कष्ट होता है, अपनों को छोड़कर जाने के गम के कारण उसकी आत्मा दुखी हो उठती है। वहीं कई बार इंसान के किए गए कर्म भी अंतिम समय में उसके कष्ट का कारण बनते हैं। युवावस्था में इंसान जो कर्म करता है, शरीर का त्याग करते समय उन्हीं कर्मां की पीड़ा को उसे भोगना पड़ता है। ऐसे में अगर युवावस्था में इन कामों को न किया जाए तो व्यक्ति अंतिम समय की कष्ट पीड़ा से बच सकता है। आइए आपको बताते हैं युवावस्था में किए गए किन कामों की वजह से व्यक्ति को अंतिम समय में कष्ट झेलना पड़ता है

वैवाहिक जीवन को सुखी बनाना चाहते हैं तो अपने बेडरूम में रखें ये चीजें

अगर आप देर रात जगते हैं और सुबह देर से उठते हैं तो आप सूर्य देव का अपमान कर रहे हैं जो आत्मा के कारक देवता हैं। इससे आत्मा को शरीर छोड़ने में कष्ट होता है।

अगर आप सूर्योदय से पहले उठकर सूर्य के दर्शन करते हैं और उन्हें जल देते हैं तो इसका आपकी आत्मा पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है।

मस्तक की रेखाओं से जाने कितनी लंबी है आपकी उम्र

मदिरा मनुष्य में अहंकार भरती है जो पाप के रास्ते पर ले जाती है जिससे मनुष्य के पाप कर्म मृत्यु के समय उसे कष्ट देते हैं।

तामसी भोजन को शास्त्रों में अशुद्ध माना गया है क्योंक ऐसा भोजन करने से मनुष्य के अंदर विकार उत्पन्न होते हैं, व्यक्ति के अंदर दया धर्म की भावना कम हो जाती है जो आत्मा के लिए अंतिम समय में पीड़ादायक होती है।

इन ख़बरों पर भी डालें एक नजर :-

श्रीनगर जाएं तो इन जगहों पर जाना ना भूलें

रात को घूमने का मजा लेना है तो जाएं दिल्ली की इन जगहों पर

किसी एडवेंचर से कम नहीं है हिमालय के पहाड़ों में ट्रेकिंग करना

 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.