गाजीपुर रैली में बोले मोदी-गंगा में नोट बहाने से भी पाप नहीं धुलेगा

Samachar Jagat | Monday, 14 Nov 2016 01:11:16 PM
गाजीपुर रैली में बोले मोदी-गंगा में नोट बहाने से भी पाप नहीं धुलेगा

गाजीपुर। बीजेपी ने यूपी में चुनावी अभियान शुरू कर दिया है। गाजीपुर रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नोट बंदी के कारण देश की जनता को काफी परेशानी हो रही है, उसके लिए मैं माफी मांगता हूं। लेकिन, देश से भ्रष्टाचार खत्म करके रहूंगा। अगर यूपी 2014 के चुनाव में पूर्ण बहुमत की सरकार में मदद न करता तो न कालेधन वाले चिंता करते न भ्रष्टाचारी। जब गांव का व्यक्ति इतना कष्ट झेलने को तैयार है, मुझे विश्वास है कि हिंदुस्तान में बेइमानों के लिए कोई चारा नहीं। ये जो मैं कर रहा हूं, देश की, गरीबों की, गांवों की, किसान की भलाई के लिए कर रहा हूं।

कुछ लोग सामने कहते हैं - मोदी जी ने अच्छा किया है। पीछे से कहते हैं लोगों को - जाओ, भडक़ो, हो-हल्ला करो। जनता की चिंता करने वाली कांग्रेस यह मुझे बताए - आपने तो 19 महीने आपातकाल लगाकर के इस देश को जेलखाना बनाया था। कांग्रेस शासन में लोगों से करोड़ों रुपए ऐंठे गए थे। एडिटरों को जेल में डाला था। क्या यह गरीबों की भलाई के लिए था? गरीब लोग बचपन में मुझे कहते थे - मोदी जी मेरे लिए जऱा कडक़ चाय बनाना।  मोदी ने कहा कि सीमापार से हमारे दुश्मन नकली नोटें छापकर हमारे देश में घुसेड़ रहे हैं। ढाई करोड़ वालों को भी छोड़ूंगा क्या? बिस्तर के नीचे से रुपए निकले, उन्हें भी छोड़ दूं क्या? ये जो नोट फेंकने आ रहे हैं, सीसीटीवी में हाथ लग गए तो हिसाब देना पड़ेगा। गंगा में नोट बहाने से भी पाप नहीं धुलेगा।

गोरखपुर में फर्टिलाइजर कारखाना कोई सोच भी नहीं सकता था कि दोबारा इस लाश में भी जान आ सकती है। हमने उसे जिंदा किया। पंडित जी, आपके जन्मदिन पर ही विकास का वो अधूरा काम आज मैं पूरा करने की शुरुआत कर रहा हूं। मोदी ने कहा कि नेता यहां आए गए। सभाएं हुईं। वोट बंटोरे लेकिन मां गंगा को पार करने के लिए कोई प्रयास नहीं हुए। मुझे दोबारा रौनक लानी है। किसानों की जिंदगी में नई ताकत पैदा करनी है।

बंगाल और असम तक यहां की सब्जी खाने के लिए लोग लालायित हैं। कटाई के बाद 15 दिन तक अगर खेत में उसका ढेर पड़ा है, कोई नुकसान हुआ, तो भी मेरे किसान को बीमा का पैसा मिलेगा। नेहरू के दल के नेता मुझ पर आरोप लगाते हैं। अगर मैं 500, 1000 रुपए के नोट बंद करता हूं, आपका कहा ही काम कर रहा हूं।

 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.