सोशल मीडिया को 2019 में कड़ी जांच-पड़ताल, निगरानी से गुजरना होगा

Samachar Jagat | Tuesday, 01 Jan 2019 12:56:57 PM
social media will have to go through a strict investigation, surveillance In 2019

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। कॉमिक सीरिज स्पाइडर-मैन से लोकप्रिय हुई कहावत बड़ी ताकत, बड़ी जिम्मेदारी लाती है व्हाट्सएप और फ़ेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सटीक बैठती है, जो भारत में विभिन्न चुनौतियों का सामना कर रही हैं। उन पर फर्जी खबरों और नफरत फैलाने वाले संदेशों का वाहक बनने का आरोप है, जिसके चलते भीड़ द्बारा पीट-पीटकर मौत के घाट उतारे जाने की घटनाएं हुईं। अब उनके लिए सरकारी नियमों में सख्ती, अधिक जवाबदेही और कड़ी नियामकीय जांच पड़ताल की प्रक्रिया से गुजारे जाने की संभावना है। 


मात्र 500 रूपए में मिल रहा है ये 4जी फोन, आराम से चला सकते हैं फेसबुक, व्हाट्सएप और यूट्यूब

साल 2018 को इसलिए इतिहास में याद रखा जाएगा क्योंकि इस दौरान सोशल मीडिया मंचों ने देश की जरुरतों को ध्यान में रखते कई बदवाल किए। जिनमें एक संदेश को फॉरवर्ड करने की सीमा निर्धारित करना और फर्जी खबरों के खिलाफ जन जागरूकता अभियान चलाना जैसी चीजें शामिल हैं। यही नहीं ये प्लटेफॉर्म भारतीय उपयोगकर्ताओं के आंकड़ों (डेटा) को भी भारत में संग्रहित करने पर राजी हुए हैं। 

इस साल की शुरुआत में डेटा लीक मामले में फ़ेसबुक की जमकर आलोचना हुई थी। इससे करीब 8.7 करोड़ उपयोगकर्ता प्रभावित हुए थे। ब्रिटेन की डेटा एनालिटिक्स और राजनीति से जुड़े परामर्श देने वाली कंपनी क्रैंबिज एनालिटिका पर बिना उपयोगकर्ताओं की अनमुति के उनकी फ़ेसबुक जानकारियां जुटाने का आरोप है। कानून एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने डेटा चोरी के जरिए चुनावों को प्रभावित करने की कोशिश करने पर फ़ेसबुक को कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है। यही नहीं, जरूरत पड़ने पर सीईओ मार्क जुकरबर्ग को भी बुलाने की धमकी दी है। 

10 हजार रूपए से ज्यादा कीमत वाले वीवो के ये स्मार्टफोन मिल रहे हैं मात्र 101 रूपए में

इन सबके के बीच फ़ेसबुक ने 2019 में होने वाले चुनावों को देखते हुए राजनीतिक विज्ञापनों में पारदर्शिता लाने के लिए कदम उठाए हैं। इसके तहत इस तरह के विज्ञापन देने के लिए विज्ञापनदाता को अपनी पहचान और स्थान की जानकारी देनी होगी। माइक्रो ब्लॉगिग साइट ट्विटर ने भी झूठी खबरों और फर्जी खातों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। ट्विटर संदिग्ध खातों को हटा रहा है। वहीं, फ़ेसबुक के स्वामित्व वाले व्हॉट्सएप को लेकर सबसे ज्यादा आलोचना हो रही है।

फर्जी खबरों और नफरत फैलाने वाले संदेशों के लिए व्हॉट्सएप का ज्यादा प्रयोग किया है, जिसके चलते देशभर में भीड़ द्बारा पीट-पीटकर मौत के घाट उतारे जाने की कई घटनाएं हुई। सरकार की चेतावनी के बाद कंपनी ने भारत के लिए एक शिकायत अधिकारी की नियुक्ति की है। सोशल मीडिया पर अविश्वसनीय सामग्री को लेकर उच्चतम न्यायालय की ओर से चिंता जताए जाने के बाद सरकार ने आईटी अधिनियम के नियमों में बदलाव का प्रस्ताव किया। इन बदलावों पर चर्चा के लिए आईटी मंत्रालय के अधिकारियों ने फ़ेसबुक, गूगल, ट्विटर और अन्य के साथ चर्चा के लिए बैठक की। इस पर 15 जनवरी तक सार्वजनिक टिप्पणी मांगी है। -एजेंसी

Huawei ने लांच किया 48 मेगापिक्सल कैमरे वाला नोवा 4 स्मार्टफोन

Xiaomi Mi Play स्मार्टफोन हुआ लांच, इसके फीचर्स और कीमत पर डालिए एक नजर

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.