अगले दशक में सड़क परिवहन का पसंदीदा साधन होगा ई मोबिलिटी: अमिताभ कांत

Samachar Jagat | Thursday, 06 Sep 2018 11:58:38 AM
In the next decade, the preferred mode of transport will be e-mobility

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने बुधवार को कहा कि अगले दशक में ई मोबिलिटी सड़क परिवहन का पंसदीदा साधन होगा। कांत ने राजधानी में सात और आठ सितंबर को आयोजित हो रहे दो दिवसीय ग्लोबल मोबिलिटी शिखर सम्मेलन के मद्देनजर भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) द्बारा यहां आयोजित सम्मेलन में कहा कि टिकाऊ मोबिलिटी सोल्यूशंस बनाने की आवश्यकता क्योंकि भविष्य में परिवहन का यही पसंदीदा साधन होगा। उन्होंने कहा कि भारतीय परिवहन परि­श्य में अगले दशक में भारी बदलाव आने वाला है क्योंकि वर्ष 2030 तक भारत दुनिया का सबसे बड़े यात्री कार बाजार होगा और उस समय हर सेकेंड एक कार की देश में बिक्री होगी।

अक्टूबर में लॉन्च होगी सेकंड जनरेशन सुजुकी अर्टिगा

कांत ने कहा कि अभी देश में जो वाहन बिक रहे हैं उनमें 76 फीसदी दोपहिया वाहन हैं जो 64 फीसदी ईंधन का उपयोग करते हैं। इन वाहनों का प्रदूषण में हिस्सेदारी 30 फीसदी है। तिपहिया वाहनों की प्रदूषण में पांच फीसदी भागीदारी है। माल परिवहन का सबसे बड़ा साधन मोटर वाहन है और वे भी वाहन जनित प्रदूषण का बड़ा स्रोत है।

अगर आपके पास भी है डीजल इंजन वाली कार तो परफॉरमेंस बढ़ाने के लिए इस तरह करें कार की मेंटेनेंस

उन्होंने कहा कि सभी तरह के वाहनों के लिए बैटरी चार्ज देश के समक्ष बड़ी चुनौती है। इसके मद्देनजर शहर के भीतर और एक शहर से दूसरे शहर के लिए वाहनों की आवाजाही में जैव ईंधन को स्वच्छ ईंधन के विकल्पों में बदलने की महत्ती आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि ई मोबिलिटी से होने वाले कारोबार की संभावनाओं से उद्योग को अवगत होने की जरूरत है। इस दौरान देश की प्रमुख वाहन निर्माता कंपनियों और प्रौद्योगिकी कंपनियों के वरिष्ठ अधिकारियों ने ई मोबिलिटी की चुनौतियों और संभावनाओं पर अपने विचार व्यक्त किए।- एजेंसी

भविष्य के वाहनों के लिए स्पष्ट, स्थायी नीति की जरूरत : मारुति

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.