भारत में यात्री कारों पर कर की दर साइज से नहीं उत्सर्जन के हिसाब से हो

Samachar Jagat | Monday, 16 Apr 2018 12:45:15 PM
Tax rates fix on passenger cars in India   Not by size According to emissions

बेंगलुरु। भारत में यात्री कारों पर कर की दर उनके आकार से नहीं, उत्सर्जन के हिसाब से होनी चाहिए। टोयोटा किर्लोस्कर मोटर के एक शीर्ष कार्यकारी ने यह बात कही। कंपनी भारत में कैमरी हाइब्रिड बेचती है। कंपनी ने यहां पर्यावरणनुकूल वाहनों पर कर कटौती की मांग की है, जिससे वह इसी तरह की प्रौद्योगिकी वाले और वाहन भारतीय बाजार में उतार सके।

रोजगार बाजार में तेजी , 9-12 प्रतिशत तक होगी वेतन वृद्धि

टोयोटा किर्लोस्कर मोटर के वाइस चेयरमैन एवं पूर्णकालिक निदेशक शेयर विश्वनाथन ने कहा, ''हम ईंधन पर सरकार की नीति में स्थिरता चाहते हैं जिसमें कर उत्सर्जन के स्तर के आधार पर लगाया जाना चाहिए। इसका मतलब है कि प्रत्येक कार के उत्सर्जन के स्तर को मापा जाना चाहिए और उसी के आधार कर लगाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वाहनों पर कर की दर इंजन क्षमता के हिसाब से नहीं होना चाहिए।

पार्सल ढुलाई कारोबार को बढ़ाने में मदद करेगा अमेजन, फ्लिपकार्ट

मौजूदा प्रणाली में यात्री वाहनों पर 28 प्रतिशत की दर से कर लगता है। इसके अलावा पेट्रोल इंजन वाले चार मीटर से कम के वाहन पर एक प्रतिशत उपकर लगता है। वहीं चार मीटर से बड़ी एसयूवी पर उपकर की दर 22 प्रतिशत तक होती है।विश्वनाथन ने कहा, '' वाहन उद्योग में इस पर एकराय नहीं है, क्योंकि कुछ लोगों पर इसका दूसरे की तुलना में अधिक प्रभाव पड़ा है। उद्योग को प्रोत्साहन देने का समानता वाला तरीका यह होगा कि वाहनों पर उत्सर्जन के हिसाब से कर लगाया जाए। एजेंसी

सप्ताह के पहले दिन लाल निशान पर खुला शेयर बाजार



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.