NHAI का लक्ष्य पूर्ति के लिए मार्च में 1,100 किमी राजमार्ग निर्माण का प्रयास

Samachar Jagat | Monday, 12 Mar 2018 02:31:54 PM
Efforts to construct 1,100 km highway in March for fulfilling the goal of NHAI

नई दिल्ली। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण( एनएचएआई) चालू माह में1,100 किलोमीटर के राजमार्ग निर्माण का प्रयास करेगा, ताकि वर्तमान वित्त वर्ष में राजमार्ग निर्माण के 3,500 किलोमीटर के तय लक्ष्य को हासिल किया जा सके। एनएचएआई के चेयरमैन दीपक कुमार ने यह जानकारी दी। जहां तक 10,000 किलोमीटर के सड़क निर्माण के ठेके देने के लक्ष्य की बात है, प्राधिकरण ने जनवरी तक 43,000 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले 2,700 किलोमीटर की राजमार्ग परियोजनाओं का ठेका दे दिया है। कुमार ने कहा, ’’ हमारा लक्ष्य 3,500 किलोमीटर राजमार्ग निर्माण का है।

एनसीआर में सरकारी विभागों, पीएसयू को ई-वाहनों का इस्तेमाल करने का निर्देश

हम 2,400 किलोमीटर राजमार्ग निर्माण का काम पूरा कर चुके हैं।’’ प्राधिकरण को आशा है कि वित्त वर्ष के लिए निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त कर लिया जाएगा। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने हाल ही में कहा है, ’’ एनएचएआई ने जनवरी 2018 तक 10,460 किलोमीटर लंबी सड़क परियोजनाओं के लिए निविदाएं आमंत्रित की हैं, जिनकी लागत लगभग 1,75,000 करोड़ रुपए है। इसके साथ ही 2017-18 में सड़क परियोजनाओं के ठेके देने में उल्‍लेखनीय प्रगति हासिल की गई है।’’

ग्रेट इंडिया प्लेस के निदेशकों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज

पिछले 5 वर्षों में एनएचएआई द्बारा ठेके पर दी गई सड़क परियोजनाओं की औसत लंबाई 2,860 किलोमीटर थी। मंत्रालय ने कहा कि मार्च 2018 में करीब 5,000 किलोमीटर की परियोजनाओं का ठेका दिया जाएगा। इसमें महाराष्‍ट्र में 1900 किलोमीटर, राजस्‍थान में 1150 किलोमीटर, उत्तर प्रदेश में 1020 किलोमीटर, ओडिशा में 880 किलोमीटर, आंध्र प्रदेश में 745 किलोमीटर, मध्‍य प्रदेश में 740 किलोमीटर, गुजरात में 650 किलोमीटर, कर्नाटक में 620 किलोमीटर, तमिलनाडु में 570 किलोमीटर, बिहार में 500 किलोमीटर, झारखंड में 430 किलोमीटर, तेलंगाना में 365 किलोमीटर, हरियाणा में 350 किलोमीटर, पश्चिम बंगाल में 280 किलोमीटर, छत्तीसगढ़ में 270 किलोमीटर की परियोजनाएं शामिल हैं। इन लक्ष्यों को पाने के लिए एनएचएआई ने एक निगरानी प्रणाली बनायी है। -एजेंसी 

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.