राजस्थान विधानसभा: हंगामे और शोर शराबे की वजह से शून्य काल स्थगित

Samachar Jagat | Friday, 07 Sep 2018 02:03:09 PM
Rajasthan Assembly news

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

जयपुर। राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने विपक्ष द्बारा लगातार किए जा रहे शोर शराबे और हंगामे के कारण शून्यकाल की कार्यवाही 2 बजे तक स्थगित कर दी। शून्य काल शुरू होते ही मेघवाल ने सदन की कार्यवाही के तहत कांग्रेस विधायक गोविंद डोटासरा की ओर से किसानों की ऋण माफी को धोखा बताने संबंधी रखे गए स्थगन प्रस्ताव को नामंजूद करने का मुद्दा उठाया।

इस मुददे को लेकर सदन की वैल में आए कांग्रेस विघायकों ने बंद करो भई बंद करो किसानों का शोषण बंद करो के नारे भी लगाए। डोटासरा द्बारा उठाए गए इस मुददे पर प्रतपिक्ष के नेता रामेश्वर डूडी ने भी समर्थन करते हुए आसन से आग्रह किया कि प्रदेश में किसानों की ऋण माफी के नाम पर धोखा किया जा रहा है और किसानों से जुड़े हुए इस मुददे पर चर्चा करायी जानी चाहिए।

उन्होंने अध्यक्ष पर संसदीय कार्यमंत्री के इशारे पर सदन की कार्यवाही चलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह विपक्ष द्बारा जनता के हित में उठाए गए मुददों पर चर्चा ही नही कराना चाहते। डोटासरा ने कहा कि उन्होंने नियमों के तहत ही स्थगन प्रस्ताव सदन में रखा है लेकिन सरकार इस पर चर्चा कराने से ही भाग रही है।

इस पर संसदीय कार्यमंत्री राजेन्द्र राठौड़ सरकारी मुख्य सचेतक कालू लाल गुर्जर सहित सत्ता पक्ष के अनेक सदस्यों ने इसका विरोध करते हुए विपक्ष पर सदन की कार्यवाही को बाधित करने का आरोप लगाया। राठौड़ ने कहा कि सदन में अध्यक्ष की व्यवस्था को कोई चुनौती नही दे सकता लेकिन कांग्रेस के सचेतक लगातार उनकी व्यवस्था को चुनौती दे रहे है।

उन्होंने कहा कि सदन में कोई भी चर्चा नियमों के तहत ही हो सकती है और सरकार नियमों के तहत आने वाले सभी मुददों पर चर्चा करने को तैयार है। सदन में लगातार हो रहे हंगामे और शोर शराबे के बीच विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने प्रतपिक्ष के नेता रामेश्वर डूडी से आग्रह किया कि सदन की कार्यवाही चलाने में सहयोग करें और अपने सदस्यों को सीट पर बैठने के निर्देश दें। परन्तु कांग्रेस के सदस्यों द्बारा लगातार किए जा रहा हंगामा और शोर शराबा जारी रहा।

उन्होंने हंगामे के बीच ही खड़े होकर दो बार सदस्यों को शांत होकर सीटों पर बैठने का आग्रह किया। किसानों की ऋण माफी के नाम पर लगातार पक्ष विपक्ष के बीच चल रहे शोर शराबे के बीच ही सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक ने किसानों की बदहाली के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों की खुशहाली के लिए पहली बार पचास हजार रुपए तक के कर्ज माफ किए है और इससे प्रदेश के 19 लाख किसान लाभांवित हुए है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की कर्ज माफी योजना की वजह से कई किसानों की माली हालत में सुघार हुआ है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों के हित में ब्याज दरों को कम किया है जिसके तहत भूमि विकास बैंकों में किसानों के ऋण पर 5 प्रतिशत अनुदान देने की व्यवस्था की और उनके ऋणों पर ब्याज दर को घटा कर साढे 5 प्रतिशत की गई है।

उन्होंने कहा कि देश में कई राज्यों ने किसानों की रिण माफी की योजना शुरू की लेकिन राजस्थान अकेला ऐसा राज्य है जहां 19 लाख किसानों को लाभांवित किया गया है और उनकी फसलों को उचित मूल्य पर खरीदने की व्यवस्था की गई है।

सदन में शोर शराबे के बीच ही सहकारिता मंत्राी अजय सिंह किलक ने शेरो शायरी भी करते हुये कांग्रेस विधायकों पर निशाना साधा। सदन में लगातार हो रहे हंगामें के बाद अघ्यक्ष कैलाश मेघवाल ने दो बजे तक कार्यवाही स्थगित करने की घोषणा की।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.