मंत्री साले मोहम्मद के प्रयासों से पहली बार मदरसों में गूंजे बापू के नारे

Samachar Jagat | Friday, 04 Oct 2019 01:20:55 PM
The slogans of Bapu echoed in madrasas for the first time due to the efforts of Minister Salle Mohammad

इंटरनेट डेस्क। महात्मा गाँधी की 150 वीं जयंती के अवसर पर राजस्थान भर के मदरसों में महात्मा गाँधी के नारे लगाएं गएं। राजस्थान सरकार में अलप संख्यक मंत्री सालेह मोहम्मद के प्रयासों से ही मदरसों में महात्मा गांधी की जयंती मनाई गई। मदरसों के बच्चो को गाँधी दर्शन और उनकी जीवनी से रूबरू कराया गया। राजस्थान के बांसवाड़ा डूंगरपुर ,जयपुर ,जैसलमेर ,बाड़मेर ,जोधपुर सहित कई शहरों में स्थित मदरसों में महात्मा गाँधी जयंती पर व्यापक पैमाने पर कार्यक्रम आयोजित हुए।


loading...

http://www.newscrab.com/article/entertainment/the-key-to-instant-entertainment-and-freedom-of-expression-10548

पोखरण स्थित दारुल उलूम इस्लामिया मदरसे ,बांसवाड़ा के मदरसा महम्मदि खिड़की गोरख  सेकड़ो मदरसों  में एका एक बापू के नारे लगाएं गएं। आसपास के दुकानदार अपना कामकाज छोड़कर मदरसे में पहुंच गए। राहगीर भी कुछ देर के लिए वहीं ठहर गए। मदरसे के भीतर से नारों की तेज आवाजें आ रही थी।  मुस्लिम समुदाय के लोगनारे लगा रहे थे। दूसरे लोग भी उनके नारों में अपनी आवाज मिलाने लगे। देखते देखते पोखरण की हर गली में वे नारे गूंजने लगे। मदरसों के बच्चों ने महात्मा गाँधी का रूप भी धारण किया ,मदरसों में गाँधी के जीवन से रूबरू भी कराया गया। मदरसे में नारे लग रहे थे...जब तक सूरज चांद रहेगा, बापू तेरा नाम रहेगा। बापू अमर रहे। हमारे देश के भाईचारे को कोई ताकत नहीं तोड़ सकती। हम पाकिस्तान को बताना चाहते हैं कि वह भारत की तरफ बुरी नजर से न देखे। इसके बाद जब सब लोग मदरसे में प्रवेश करने लगे तो मुस्लिम समुदाय ने जोर-जोर से नारे लगाने शुरु कर दिए।

http://www.newscrab.com/article/entertainment/the-key-to-instant-entertainment-and-freedom-of-expression-10548

मोहम्मद उमर बाड़मेर, कारी अब्दुल करीम, मोहम्मद गुल्लामुला, मोहम्मद अयूब अजमेर, मुफ्ती जमालुद्दीन, दीन मोहम्मद पोकरण, इस्माइल दीन और मोहम्मद असद बांसवाड़ा ने कहा कि बापू मानवता के प्रतीक थे। उनके कार्यों को किसी एक देश की सीमा में नहीं रोका जा सकता। महात्मा गांधी ने समस्त मानव जाति के उत्थान का कार्य किया था और वे आजीवन सभी समुदायों की भलाई के लिए काम करते रहे। इनका कहना था कि पाकिस्तान जिनता भी जोर लगा ले, लेकिन वह भारत की एकता और अखंडता को नहीं तोड़ सकता। अल्पसंख्यक मंत्री सालेह मोहम्मद मदरसों के प्रति आम धारणा  को तोड़ मदरसों को राष्ट्र भक्ति  और शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने का प्रयास कर रहे हे इसमें वो सफल भी हो रहे ,अब तक मदरसों को कभी सरकार की और से कभी ऐसे निर्देश नहीं मिले ,मगर पहली बार मंत्री सालेह मोहम्मद ने सभी मदरसों में आदेश भिजवाए की मदरसों में गाँधी जयंती पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किये जाए ,मदरसों में गाँधी जी 150 वीं जयंती पर विशेष कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं। 
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.