जन्मदिन विशेष: पद्मिनी कोल्हापुरी की जिंदगी से जुड़़ी है ये दिलचस्प बातें

Samachar Jagat | Thursday, 01 Nov 2018 04:03:35 PM
Padmini Kolhapure Birthday special

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

मुम्बई। बॉलीवुड में अपनी दिलकश अदाओं से अभिनेत्री पद्मिनी कोल्हापुरी ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन वह फिल्म अभिनेत्री न बनकर पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं। पद्मिनी का जन्म 01 नवंबर 1965 को एक मध्यम वर्गीय महाराष्ट्रियन कोंकणी परिवार में हुआ। उनके पिता पंढरीनाथ कोल्हापुरे शास्त्रीय गायक थे और मां एयरलाइंस में काम किया करती थीं। घर में संगीत का माहौल रहने के कारण उनका रूझान भी संगीत की ओर हो गया और वह अपने पिता से संगीत सीखने लगी।


वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म 'यादों की बारात' में उनको गाने का अवसर मिला। इस फिल्म में उनकी आवाज में रचा बसा गीत 'यादों की बारात निकली है आज दिल के द्वारे' श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ। इसके बाद उन्होंने किताब और दुश्मन दोस्त जैसी फिल्मों में भी अपनी बहन शिवांगी के साथ पार्श्वगायन किया। पद्मिनी ने बतौर बाल कलाकार अपने करियर की शुरूआत निर्माता बी. एस. थापा की फिल्म एक खिलाड़ी बावन पत्ते से की। वर्ष 1974 में पद्मिनी कोल्हापुरे को अपनी दूर की रिश्तेदार आशा भोंसले के प्रयास से देवानंद की फिल्म 'इश्क इश्क इश्क' में बतौर बाल कलाकार काम करने का मौका मिला।

इसके बाद उन्होंने ड्रीमगर्ल, साजन बिना सुहागन, जिंदगी जैसी फिल्मों में भी बतौर बाल कलाकार काम किया। वर्ष 1977 में प्रदर्शित फिल्म सत्यम शिवम सुंदरम पद्मिनी कोल्हापुरे के करियर की अहम फिल्म साबित हुई। महान निर्माता-निर्देशक राजकपूर की इस फिल्म में उन्होंने अभिनेत्री जीनत अमान के बचपन की भूमिका निभाई थी। इस फिल्म में उनके अभिनय को जबरदस्त सराहना मिली इसके साथ ही वह दर्शकों के बीच अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गयी।

वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म 'इंसाफ का तराजू' पद्मिनी के करियर की महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुयी। बी. आर. चोपड़ा के बैनर तले बनी यह फिल्म वर्ष 1976 में प्रदर्शित हॉलीवुड फिल्म लिपिस्टक की रिमेक थी। इस फिल्म में उन्होंने अभिनेत्री जीनत अमान की बहन की भूमिका निभाई थी जो बलात्कार की शिकार एक युवती की भूमिका निभाई थी। फिल्म में अपनी संजीदा भूमिका से उन्होंने दर्शकों का दिल जीत लिया साथ ही सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित की गयी।

बतौर अभिनेत्री पद्मिनी ने अपने करियर की शुरूआत वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म 'जमाने को दिखाना है' से की। नासिर हुसैन निर्मित इस फिल्म में उनके नायक की भूमिका अभिनेता ऋषि कपूर ने निभाई थी। बेहतरीन गीत-संगीत के बावजूद फिल्म को टिकट खिड़की पर अपेक्षित सफलता नहीं मिली। वर्ष 1982 में प्रदर्शित फिल्म 'प्रेम रोग' में पद्मिनी कोल्हापुरी के अभिनय के नये रूप देखने को मिले। राजकपूर के निर्देशन में बनी इस फिल्म में उन्होंने एक विधवा का किरदार निभाया था।

अपने भावपूर्ण अभिनय से उन्होंने दर्शकों का दिल जीत लिया और फिल्म सुपरहिट हुयी। फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित की गयीं। वर्ष 1982 में पद्मिनी को सुभाष घई निर्मित फिल्म 'विधाता' मे काम करने का अवसर मिला जो उनके करियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुयी। इस फिल्म में उन्होंने अभिनय के अलावा 'गीत सात सहेलियां खड़ी खड़ी' को भी अपनी आवाज दी थी जो उन दिनों श्रोताओं के बीच क्रेज बन गया था।

हालांकि बाद में यह गीत बैन कर दिया गया था। वर्ष 1983 में प्रदर्शित फिल्म 'सौतन' उनके करियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में शुमार की जाती है। इस फिल्म में उन्हें सुपरस्टार राजेश खन्ना के साथ काम करने का अवसर मिला। फिल्म में एक अछूत कन्या का किरदार निभाया था। फिल्म में अपने संजीदा अभिनय के लिये पद्मिनी सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से नामांकित की गयी। वर्ष 1985 में प्रदर्शित फिल्म 'प्यार झुकता नहीं' पद्मिनी के करियर की सर्वाधिक सुपरहिट फिल्मों में शुमार की जाती है।

इस फिल्म में उनके नायक की भूमिका मिथुन चक्रवर्ती ने निभायी थी। दोनों की जोड़ी को दर्शकों ने बेहद पसंद किया। फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये पद्मिनी अपने करियर में दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से नामांकित की गयी । वर्ष 1986 में प्रदर्शित फिल्म 'ऐसा प्यार कहां' के निर्माण के दौरान पद्मिनी का झुकाव निर्माता टुटु शर्मा की ओर हो गया और बाद में उन्होंने शादी कर ली।

शादी के बाद उन्होंने फिल्मों में काम करना काफी हद तक कम कर दिया। वर्ष 1993 में प्रदर्शित फिल्म 'प्रोफेसर की पड़ोसन' के बाद पद्मिनी ने फिल्म इंडस्ट्री से संन्यास ले लिया। वर्ष 2004 में प्रदर्शित मराठी फिल्म मंथन से पद्मिनी ने फिल्म इंडस्ट्री में अपनी वापसी की। फिल्म में उनकी भूमिका दर्शकों के बीच काफी सराही गयी। उन्होंने लगभग 60 फिल्मों में काम किया है। वह इन दिनों बॉलीवुड में अधिक सक्रिय नहीं हैं। - एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.