फिल्म समीक्षा : बेहतरीन कहानी और सोनाक्षी के शानदार अभिनय के बाद भी क्यों दर्शको के दिल से दूर है 'नूर' 

Samachar Jagat | Friday, 21 Apr 2017 12:59:59 PM
फिल्म समीक्षा : बेहतरीन कहानी और सोनाक्षी के शानदार अभिनय के बाद भी क्यों दर्शको के दिल से दूर है 'नूर' 

मुंबई। बॉलीवुड में महिला प्रधान फिल्मों का चलन इन दिनों जोरो पर है। इस शुक्रवार फिर इस सूचि में नाम जुड़ा है सोनाक्षी सिन्हा स्टारर फिल्म 'नूर' का। सुनहिल सिप्पी के निर्देशन में बनी फिल्म नूर में सोनाक्षी सिन्हा, कनन गिल, मनीष चौधरी, पूरब कोहली, स्मित ताम्बे, शिबानी दांडेकर जैसे कलाकार नजर आएंगे। फिल्म की कहानी पाकिस्तान की जर्नलिस्ट लेखिका सबा सैयद की किताब 'कराची यू आर कीलिंग मी' पर आधारित है। जो ना सिर्फ अपनी दमदार कहानी के कारण सुर्खियों में बनी रही बल्कि सराहना के काबिल भी रही। तो चलिए बात करते है इस किताब पर आधारित इस फिल्म की कहानी पर।

Half Girlfriend’ को बड़े पर्दे पर बयां कर पाना कठिन था : मोहित सूरी 

कहानी-

इस फिल्म में सोनाक्षी सिन्हा ने एक 20 वर्षीय नूर रॉय चौधरी का किरदार निभाया है जो पेशे से एक जर्नलिस्ट है, और अपने पिता के साथ मुंबई मे रहती है। नूर भले ही पेशे से एक जर्नलिस्ट क्यों ना हो लेकिन उसका रुझान हमेशा से सच्ची घटनाओं पर आधारित स्टोरीज करने का होता था। लेकिन वह जिस मीडिया हाउस में काम करती है उसका बोस उसे पेज 3 यानि बॉलीवुड से जुड़ी स्टोरिज करने को कहता है।

लेकिन जिंदगी को अपने अंदाज से जिने वाली नूर अपने रुझान के मुताबिक काम करना चाहती है। तभी कहानी में एक ट्विस्ट आता है और नूर को एक ऐसी स्टोरी करने का मौका मिलता है जिसे लेकर वह एक लंबे वक्त से तड़प रही थी। उसके हाथ एक ऐसा वीडियो लगता है जो एक रैकेट का पर्दाफाश करनें के लिए बेहद अहम होता है। लेकिन नूर का ये सपना जब टूट जाता है जब उसकी ये स्टोरी चोरी हो जाती है। और कोई इसे अपने नाम से पेश कर देता है। बस यहीं से नूर की खतरो से भरी जिंदगी शुरु हो जाती है। जिसे देखने के लिए दर्शको को सिनेमाघर जाना होगा। 

वीरप्पन की किताब के विमोचन से सम्मानित महसूस कर रहे है अक्षय

अभिनय- 

फिल्म में नूर के फ्रैंड्स की भूमिका में जारा उर्फ शिबानी दांडेकर, अयान बनर्जी उर्फ पूरब कोहली, साद सहगल उर्फ कनन गिल, नजर आएगें। वहीं बॉस की भूमिका में मनीष चौधरी नजर आएंगे। बात करे कलाकारो की एक्टिंग की तो सोनाक्षी ने इस फिल्म में फिर एक बार बेहतरीन अभिनय की परिभाषा दी है। वहीं सह कलाकार अपने अपने रोल में फीट बैठे है। 

फिल्म को बेअसर करती ये कड़ियां 

लेकिन बात करे फिल्म के ओवरऑल प्रदर्शन की तो बेहतरीन कहानी पर बनी ये फिल्म बड़े पर्दे पर अपना जलवा नही बिखेर सकी। फिल्म कहीं कही कमजोर नजर आती है। एक पत्रकार के जीवन के विभिन्न पहलुओ को दर्शाती नूर को कई सॉलिड रिसर्च की जरुरत थी जो इस फिल्म को ओर अधिक मजबूती प्रदान कर सकते थे।

source - google   

करण के साथ शादी करना शानदार रहा : बिपाशा

‘Munna Michael' और 'Bareilly Ki Barfi' बॉक्स ऑफिस पर होंगी आमने-सामने

‘महाभारत’ फिल्म का निर्देशन करेंगे वी ए श्रीकुमार मेनन

 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.