इमरान के प्रधानमंत्री बनने के बाद पाकिस्तानी खिलाडिय़ों को बदलाव की उम्मीद

Samachar Jagat | Sunday, 19 Aug 2018 12:08:46 PM
Pakistani players hope to change after Imran Khan becomes Prime Minister

पालेमबांग। पाकिस्तान के नव निर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने जोरदार चुनाव प्रचार के दौरान ‘तब्दीली’ का वादा किया था और पैसे की तंगी से जूझ रहे खिलाडिय़ों को देश के खेल ढांचे में नई जान फूंकने के लिए इस पूर्व क्रिकेटर से काफी उम्मीदे हैं। पाकिस्तान में ओलंपिक खेलों को पैसे की कमी का सामना करना पड़ रहा है और हाल में उसकी हॉकी टीम ने दैनिक भत्तों का भुगतान नहीं होने के कारण मौजूदा एशियाई खेलों से हटने की धमकी दी थी।

लोकसभा चुनाव से पूर्व जमीनी हकीकत का आकलन कर रही है कांग्रेस, माकपा

देश की टेनिस टीम प्रतियोगिता से एक दिन पहले कल ही यहां पहुंची है और वह भी कप्तान और कोच के बिना। निशानेबाज भी पैसे की कमी के कारण अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने में नाकाम रहे हैं। पाकिस्तान के अनुभवी टेनिस खिलाड़ी अकील खान ने यहां अभ्यास सत्र से पहले पीटीआई से कहा कि, ‘‘निश्चित तौर पर इमरान खान से काफी उम्मीदे हैं। मैंने अपने जीवन में सिर्फ दूसरी बार वोट दिया है। वह चैंपियन खिलाड़ी रहा है। उसे पता है कि सफल खिलाड़ी बनने के लिए क्या करना होता है।’’

गौकशी की सूचना देने पर दो पुजारियों को मिली ऐसी खौफनाक सजा, पुलिस ने किया खुलासा

टीम के साथ किसी कोच के नहीं होने के कारण 38 वर्षीय अकील आठ सदस्यीय टीम में खिलाड़ी के अलावा जूनियर खिलाडिय़ों के मेंटर की भूमिका भी निभा रहे हैं। काफी समय पहले एटीपी टूर पर खेलना छोडऩे वाले कराची के अकील ने कहा कि, ‘‘मैं आधिकारिक बैठकों में भी हिस्सा ले रहा हूं लेकिन यह ठीक है। पकिस्तान की सेवा करना सम्मान की बात है।’’ भारत में लगातार आईटीएफ टूर्नामेंट और 2010 दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों में खेलने वाले अकील ने कहा कि, ‘‘यह काफी खर्चीला है। आपको यात्रा के लिए काफी पैसे की जरूरत होती है, निजी कोच की जरूरत होती है। स्वेदश में मेरे पास सरकारी नौकरी (वापडा इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड में) है। मैं इससे संतुष्ट हूं।’’

कांग्रेस सिद्धू को पार्टी से निकाल कर देश से माफी मांगे: अनिल जोशी

टेनिस टीम के अन्य सदस्य मोहम्मद आबिद और मुजम्मिल मुर्तजा हैं जो युवा हैं। इन्हें विदेशी में ट्रेनिंग और प्रतियोगिता के लिए अपने संघ से पैसे नहीं मिलते और निजी प्रायोजन पर निर्भर हैं। आबिद भारत में आईटीफ प्रतियोगिताओं में खेलना चाहते हैं लेकिन उन्हें वीजा मुद्दों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि, ‘‘वे कहते हैं कि आपको सिर्फ राजनयिक वीजा मिल सकता है। हमें नहीं पता कि किससे संपर्क करना है। हम भारतीय खिलाडिय़ों से मिले। वे पिछले साल पाकिस्तान में खेलने आए थे और हम भी वहां जाना चाहते हैं। उम्मीद करते हैं कि कुछ हो पाएगा।’’ आबिद ने कहा कि, ‘‘मैं इमरान खान का बड़ा प्रशंसक हूं। इंशाअल्लाह वह देश को आगे ले जाएंगे। लोगों को उनसे काफी उम्मीदें हैं।’’



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.