हनुमान के समान ही बलवान और साहसी था उनका पुत्र मकरध्वज

Samachar Jagat | Friday, 11 May 2018 12:51:55 PM
Like his Hanuman, his son Mankadvaj was brave and courageous

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। हनुमान ब्रह्मचारी थे और उन्होंने विवाह नहीं किया था, पुराणों के अनुसार हनुमान का एक पुत्र था और उसने मछली के गर्भ से जन्म लिया था। आप जरूर ये जानना चाहेंगे कि आखिर कैसे मछली ने हनुमान के पुत्र को जन्म दिया। आइए आपको बताते हैं हनुमान के पुत्र के जन्म से जुड़ी रौचक कथा के बारे में....

धनवान बनने के लिए व्यक्ति की कुंडली में होने चाहिए ये योग

जब हनुमान सीता की खोज में लंका पहुंचे और मेघनाद द्वारा पकड़े जाने पर उन्हें रावण के दरबार में प्रस्तुत किया गया। तब रावण ने उनकी पूंछ में आग लगवा दी और हनुमान ने जलती हुई पूंछ से लंका जला दी। जलती हुई पूंछ की वजह से हनुमानजी को तीव्र वेदना हो रही थी जिसे शांत करने के लिए वे समुद्र के जल से अपनी पूंछ की अग्नि को शांत करने पहुंचे।

जानिए कौन था सहस्त्रार्जुन और क्या था इसका रावण से संबंध

उस समय उनके पसीने की एक बूंद पानी में टपकी जिसे एक मछली ने पी लिया था। उसी पसीने की बूंद से वह मछली गर्भवती हो गई और मछली के गर्भ से एक पुत्र उत्पन्न हुआ। जिसका नाम मकरध्वज रखा गया। हनुमान का पुत्र मकरध्वज भी हनुमानजी के समान ही महान पराक्रमी और तेजस्वी था।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए आज करें ये उपाय

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.