अलग-अलग प्रकार के होते हैं शिवलिंग, मनोकामना अनुसार करें पूजा 

Samachar Jagat | Tuesday, 13 Feb 2018 07:04:01 AM
There are different types of shiveling, please according to the wish.

धर्म डेस्क। भगवान शिव की पूजा करने से हर मनोकामना की पूर्ति होती है, वहीं शिवलिंग की पूजा करने से भोलेनाथ जल्द ही प्रसन्न होते हैं। क्या आप जानते हैं शिवलिंग कई प्रकार के होते हैं और अलग-अलग कामना की पूर्ति के लिए अलग-अलग शिवलिंग की पूजा की जाती है। आइए आपको विस्तार से बताते हैं इसके बारे में......

इस राक्षस की वजह से यहां पर मिलता है पितरों को मोक्ष!

अगर किसी व्यक्ति को अकाल मृत्यु का भय सताता है तो उसे दुर्वा को शिवलिंग के आकार में गूंथकर उसकी पूजा करनी चाहिए।

जीवन-मरण के चक्र से मुक्ति पाने के लिए व्यक्ति को आंवले से बने शिवलिंग का रुद्राभिषेक करना चाहिए।

तंत्र-मंत्र या फिर कैसी भी विशेष सिद्धि प्राप्त करना चाहते हैं तो यज्ञ कि भस्म से शिव लिंग बनाकर उसकी पूजा करें।

आज भी अनसुलझे हैं तिरुपति बालाजी मंदिर के ये रहस्य

अगर संतान का सुख चाहते हैं तो जौं, गेहूं और चावल को समान मात्रा में मिलाकर इसका आटा बना लें और इस आटे से शिवलिंग बनाकर उसकी पूजा करें। जल्द ही संतान की प्राप्ति होगी।

किसी को अपने वश में करना है तो मिर्च, पीपल के चूर्ण में नमक मिलाकर इसका शिवलिंग बनाएं और इसकी पूजा करें।

जब किसी को अपने शत्रुओं का नाश करना होता है तो वह लहसुनिया से बना शिवलिंग तैयार कर उसकी पूजा करता है। इससे शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है।

शिव का अंश ही था उनका सबसे बड़ा दुश्मन

पीपल की लकडी से भी शिवलिंग बनाया जाता है, अगर कोई व्यक्ति दरिद्र है तो वह पीपल की लकड़ी से शिवलिंग बनाकर उसकी पूजा कर सकता है, इस शिवलिंग की पूजा करने से दरिद्रता दूर होती है।

अगर किसी को सुख-समृद्धि की कामना है तो उसे सोने के शिवलिंग की पूजा करनी चाहिए, सोने के शिवलिंग की पूजा करने से अपार धन संपदा की प्राप्ति होती है।

Source-Google

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

शास्त्रों के अनुसार क्यों नहीं लगाना चाहिए झाड़ू को पैर



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.