चंद्रयान-2: चांद पर अब हो जाएगी रात, विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीद हुई कम  

Samachar Jagat | Wednesday, 18 Sep 2019 11:55:09 AM
Chandrayaan-2: It will be night on the moon, Vikram Lander expected to be less

इंटरनेट डेस्क। इसरो के वैज्ञानिक अब भी अपने चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर से संपर्क साधने में लगे हुएं हैं। विक्रम लैंडर से संपर्क की उम्मीद अब कम ही है। क्योंकि चांद पर अब रात होने वाली है। वहीं भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने चंद्रयान-2 मिशन में लैंडर विक्रम से संपर्क टूटने के बाद भी साथ देने के लिए देशवासियों के प्रति आभार जताया है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने ट्वीट करके कहा कि हमारा साथ देने के लिए धन्यवाद। दुनिया भर में भारतीयों की उम्मीदों और सपनों के बल पर हम आगे बढ़ना जारी रखेंगे। हमें हमेशा आसमान छूने के लिए प्रेरित करने के लिए धन्यवाद। 7 सितंबर को तड़के 1.50 बजे के आसपास विक्रम लैंडर का चांद के दक्षिणी ध्र्रुव पर हार्ड लैंडिंग हुई थी। जिस समय चंद्रयान-2 का विक्रम लैंडर की हार्ड लैंडिंग हुई, उस समय वहां सुबह थी। यानी सूरज की रोशनी चांद पर पड़नी शुरू हुई थी।

चांद का पूरा दिन यानी सूरज की रोशनी वाला पूरा समय पृथ्वी के 14 दिनों के बराबर होता है। यानी 20 या 21 सितंबर को चांद पर रात हो जाएगी। 14 दिन काम करने का मिशन लेकर गए विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर के मिशन का टाइम पूरा हो जाएगा। आज 18 सितंबर है, यानी चांद पर 20-21 सितंबर को होने वाली रात में कुछ ही वक्त बचा है। यानी, चांद पर शाम हो चुकी है। हमारे कैलेंडर में जब 20 और 21 सितंबर की तारीख होगी, तब चांद पर रात का अंधेरा छा चुका होगा।

20-21 सितंबर तक किसी तरह भी इसरो और दुनिया भर की अन्य एजेंसियों के वैज्ञानिक विक्रम लैंडर से संपर्क स्थापित करने में सफल हो गए तो ठीक, नहीं तो यह माना जा सकता है कि दोबारा विक्रम से संपर्क करना किसी चमत्कार से कम नहीं होगा। क्योंकि, चांद पर रात शुरू हो जाएगी, जो पृथ्वी के 14 दिनों के बराबर होगी।चांद के उस हिस्से में सूरज की रोशनी नहीं पड़ेगी, जहां विक्रम लैंडर है। तापमान घटकर माइनस 183 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है। इस तापमान में विक्रम लैंडर के इलेक्ट्रॉनिक हिस्से खुद को जीवित रख पाएंगे, ये कह पाना मुश्किल है। इसलिए विक्रम लैंडर से संपर्क नहीं हो पाएगा। 
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.