धर्म सरकार का एजेंडा नहीं हो सकता है : ममता बनर्जी

Samachar Jagat | Thursday, 07 Dec 2017 06:59:46 AM
Religion can not be an agenda of the government: Mamata Banerjee

कोलकाता। अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाए जाने की बरसी को लेकर भाजपा को निशाने पर लेते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को बांटने वाली राजनीति जो 25 साल पहले शुरू हुई थी, वह अब भी चल रही है और धर्म चुनाव का मुद्दा या सरकार का एजेंडा नहीं हो सकता है। 

भाजपा द्वारा उनकी सरकार पर तुष्टीकरण की राजनीति करने का आरोप लगाने को लेकर उन्होंने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में करीब 31 फीसदी मुस्लिम आबादी है। 

विवादित ढांचा ढहाए जाने की 25वीं बरसी के मौके पर आयोजित संहति दिवस रैली में उन्होंने कहा, राज्य की मुख्यमंत्री होने के नाते, यह मेरी जिम्मेदारी है कि मैं उनकी देखभाल करूं। अगर लोगों के लिए काम करना तुष्टीकरण है तो मैं यह करना जारी रखूंगी। 

भाजपा नीत केंद्र सरकार की मुखर आलोचक तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने कहा कि असहिष्णुता एक राजनीतिक पार्टी और सरकार की स्पष्ट नीति बन चुकी है। उन्होंने कहा, हमें अपनी विविधता पर गर्व है। हम सभी भारतीय हैं। यह हमारी पहचान है। लोगों को विभाजित करने वाली जो राजनीति शुरू हुई थी, वह अब भी जारी है। 

मुख्यमंत्री ने कहा, एक राजनीतिक पार्टी सांप्रदायिक राजनीति में शामिल है और देश को बांटना चाहती है। धर्म किसी सरकार का एजेंडा नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि बंटवारे की राजनीति करने वाला व्यक्ति देश का नेतृत्व नहीं कर सकता है। 

मुख्यमंत्री ने कहा, एक सच्चे नेता को सभी को साथ लेकर चलना होता है। भाजपा पर राज्य में सांप्रदायिक शांति और सौहार्द बिगाडऩे का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा, जब तक मैं जीवित हूं, मैं लोगों के लिए बोलती रहूंगी। आप मुझे चुप नहीं करा सकते।  -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2017 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.