वाजपेयी थे निमोनिया से पीड़ित, उनके कई अंगों ने कर दिया था काम करना बंद : चिकित्सक

Samachar Jagat | Thursday, 16 Aug 2018 07:59:35 PM
Vajpayee was suffering from pneumonia, many of his organs had stopped working: doctor

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। एम्स के चिकित्सकों के अनुसार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी निमोनिया से पीड़ित थे और उनके कई प्रमुख अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। उन्होंने कहा कि 93 वर्षीय वयोवृद्ध नेता को उनके जीवन के अंतिम दिन एक्स्ट्राकॉर्पोरियल मेम्ब्रेन ऑक्सीजिनेशन (ईसीएमओ) सपोर्ट पर रखा गया था।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ने गुरुवार को वाजपेयी के निधन की घोषणा की। पूर्व प्रधानमंत्री को कई समस्याओं को लेकर 11 जून को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। एक चिकित्सक ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर बताया कि वह निमोनिया से पीड़ित थे और गुर्दा सहित उनके कई प्रमुख अंगों ने काम करना बंद कर दिया था।

शोक में डूबा पूरा राष्ट्र, हुआ एक का युग का अंत, नेताओं ने दी भावपूर्ण श्रद्धांजलि

उन्हें अंतिम दिन ईसीएमओ सपोर्ट पर रखा गया था। एसीएमओ के जरिए ऐसे मरीजों को दिल और श्वसन संबंधी सपोर्ट दिया जाता है, जिनके हृदय और फ़ेफड़े सही तरीके से अपना काम नहीं कर पाते हैं। पूर्व प्रधानमंत्री को गुर्दे और मूत्र नली के संक्रमण, कम मूत्र होने और सीने में जकड़न की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं...,अटल ​बिहारी की कविता

चिकित्सकों ने कहा कि समय-समय पर उनकी डायलिसिस की जा रही थी। चिकित्सकों ने बताया कि उनके पार्थिव शरीर को लेपन के लिए शरीर-रचना विभाग को भेजा गया है। वाजपेयी मधुमेह से पीड़ित थे और उनका केवल एक गुर्दा ही काम कर रहा था।

एक कवि के रूप में भी अटल बिहारी वाजपेयी रहे काफी लोकप्रिय 

साल 2009 में उन्हें आघात लगा था, जिससे उनकी संज्ञानात्मक क्षमताएं कमजोर हो गयी थीं। और कुछ समय बाद उन्हें डिमेंशिया हो गया था। देश के सबसे करिश्माई नेताओं में से एक वाजपेयी का गुरुवार को एम्स में निधन हो गया। वे 93 साल के थे।

अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, शाम 5 बजकर 5 मिनट पर ली अंतिम सांस

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.