ममता ने भाजपा पर 'बंगाली विरोधी’ होने का लगाया आरोप

Samachar Jagat | Tuesday, 14 Aug 2018 10:22:05 AM
Mamata accused BJP of being 'anti-Bengali'

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

कोलकाता। असम की राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के अंतिम मसौदे में 40 लाख से ज्यादा लोगों के नाम शामिल नहीं किए जाने को लेकर केंद्र की भाजपा नीत सरकार पर हमला बोलते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज भाजपा को ''बंगाली विरोधी’’ करार दिया। भाजपा पर निशाना साधते हुए तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने पूछा कि क्या हिलसा मछली, जामदानी साड़ी, संदेश और मिष्टी दोई, जो मूल रूप से बांग्लादेश के हैं, को भी ''घुसपैठिया या शरणार्थी’’ करार दिया जाएगा।  

कांग्रेस का शाह के खिलाफ देनदारी छिपाने का आरोप, चुनाव आयोग से कार्यवाही शुरू करने की मांग 

ममता ने कहा कि ये ''40 लाख लोग पूरी तरह भारतीय हैं।’’ उन्होंने उन मानदंडों पर भी सवाल उठाए जिसके आधार पर 40 लाख से ज्यादा लोगों के नाम एनआरसी के अंतिम मसौदे में शामिल नहीं किए गए हैं। कहा कि यदि सरकार उनसे उनके माता-पिता के जन्म प्रमाण-पत्र मांगेगी तो वह भी इन दस्तावेजों को पेश नहीं कर पाएंगी।  

ओझा बोले, दुष्कर्म मामले में राजनेताओं-अधिकारियों को बचाने का प्रयास  

ममता ने कहा, ''मैं अपने माता-पिता के जन्म की तारीखें नहीं जानती। मैं सिर्फ उनकी मृत्यु की तारीखें जानती हूं। मैं उनके जन्म की तारीख वाले कोई दस्तावेज पेश नहीं कर पाऊंगी। ऐसे मामलों को लेकर एक स्पष्ट व्यवस्था होनी चाहिए। आप आम लोगों को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते। ’’ 

रेल मंत्री की बड़ी घोषणा: रेलवे में बिना इंटरव्यू के होंगी 1 लाख 30 हजार पदों की भर्तियां  

उन्होंने भाजपा को ''बंगाली विरोधी’’ और ''पश्चिम बंगाल विरोधी’’ करार दिया। उन्हें (भाजपा को) नहीं भूलना चाहिए कि बंगाली बोलना अपराध नहीं है। यह दुनिया में बोली जाने वाली पांचवीं सबसे बड़ी भाषा है। भाजपा को बंगाल से क्या दिक्कत है? क्या वह बंगालियों और उनकी संस्कृति से डरी हुई है? उन्हें नहीं भूलना चाहिए कि बंगाल देश का सांस्कृतिक मक्का है।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.