सूर्यपुत्र होने के बाद भी कर्ण को क्यों कहा जाता है सूतपुत्र

Samachar Jagat | Wednesday, 30 Nov 2016 10:27:13 AM
सूर्यपुत्र होने के बाद भी कर्ण को क्यों कहा जाता है सूतपुत्र

कर्ण सूर्यपुत्र थे और कुंती उनकी माता थी चूंकि कुंती अविवाहित थी इसलिए उसने कर्ण का त्याग कर दिया था। कर्ण की छवि आज भी भारतीय जनमानस में एक ऐसे महायोद्धा की है जो जीवनभर प्रतिकूल परिस्थितियों से लड़ता रहा। कर्ण का जन्म कैसे हुआ, आइए आपको बताते हैं इस कथा के बारे में....

श्रीमद्भागवत पुराण में कलयुग के बारे में की गई है ये भविष्यवाणी

कर्ण का जन्म कुंती को मिले एक वरदान स्वरुप हुआ था। जब कुंती अविवाहित थीं उस समय एक बार दुर्वासा ऋषि उसके पिता के महल में पधारे। कुंती ने पूरे एक वर्ष तक ऋषि की बहुत अच्छी तरह से सेवा की। कुंती के सेवाभाव से प्रसन्न होकर उन्होनें अपनी दिव्यदृष्टि से ये देख लिया कि पाण्डु से उसे संतान नहीं हो सकती और उसे ये वरदान दिया कि वह किसी भी देवता का स्मरण करके उनसे संतान उत्पन्न कर सकती है।

एक दिन अचानक कुंती को ऋषि का वरदान याद आ गया और उसने उत्सुकतावश कुंआरेपन में ही सूर्य देव का ध्यान किया। इससे सूर्य देव प्रकट हुए और उसे एक पुत्र दिया जो तेज़ में सूर्य के ही समान था। वह बालक कवच और कुण्डल लेकर उत्पन्न हुआ था। कवच, कुंडल जन्म से ही उसके शरीर से चिपके हुए थे। चूंकि वह अविवाहित थी इसलिए लोक-लाज के डर से उसने उस पुत्र को एक बक्से में रख कर गंगाजी में बहा दिया।

वास्तुशास्त्र में पानी रखने की सही दिशा की गई है निर्धारित

कर्ण गंगाजी में बहता हुआ जा रहा था कि महाराज धृतराष्ट्र के सारथी अधिरथ और उनकी पत्नी राधा ने उसे देखा और उसे गोद ले लिया और उसका लालन पालन करने लगे। कर्ण का पालन एक रथ चलाने वाले ने किया जिसकी वजह से कर्ण को सूतपुत्र कहा जाने लगा। अंग देश का राजा बनाए जाने के पश्चात कर्ण का एक नाम अंगराज भी हुआ, महाभारत के युद्ध में कर्ण ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

इन ख़बरों पर भी डालें एक नजर :-

श्रीनगर जाएं तो इन जगहों पर जाना ना भूलें

रात को घूमने का मजा लेना है तो जाएं दिल्ली की इन जगहों पर

किसी एडवेंचर से कम नहीं है हिमालय के पहाड़ों में ट्रेकिंग करना

 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.