हार्दिक पंड्या ने मैगी खाकर और उधार की किट से चलाया था गुजारा

Samachar Jagat | Saturday, 12 Oct 2019 11:31:44 AM
Hardik Pandya lived by eating Maggi and borrowing kit

इंटरनेट डेस्क। भारतीय स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या मैदान पर अपनी बल्लेबाजी और उसके बाहर अपनी अलग स्टाइल के लिए मशहूर हैं। 11 अक्टूबर को 27 साल के होने जा रहा यह क्रिकेटर आज भले ही लग्जरी लाइफ जीता हो लेकिन इस जिंदगी के लिए उन्होंने बहुत संघर्ष किया है। गुजरात के वडोदरा से शुरू हुआ पंड्या का सफर आज टीम इंडिया तक पहुंचा है जिसके लिए उन्होंने कड़ी मेहनत और कई त्याग किए हैं। हार्दिक के पिता हिमांशु पंड्या गुजरात के सूरत में फाइनेंस का व्यापार करते थे। कुछ समय बाद 1998 में उनके पिता अपना व्यापार बंद करके वडोदरा जाने को मजबूर हो गए।


loading...

बल्लेबाजी में पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी डॉन ब्रैडमैन से सिर्फ एक कदम पीछे विराट कोहली

उस समय पंड्या महज पांच साल के थे. वडोदरा में पंड्या परिवार किराए के मकान में रहता था. हार्दिक के पिता को क्रिकेट काफी पसंद था। वह हमेशा अपने दोनों बेटों को साथ में मैच दिखाते थे तो कई बार मैच के लिए स्टेडियम भी ले जाते थे। इसी दौरान हार्दिक पंड्या और क्रुणाल पंड्या को उन्होंने आर्थिक तंगी के बावजूद किरण मोरे की एकेडमी में दाखिला दिलाया. हार्दिक पंड्या नौवीं क्लास में फेल हो गए थे। इसके बाद उन्होंने पूरी तरह से क्रिकेट पर फोकस करने के लिए पढ़ाई छोड़ दी। हार्दिक का कहना है कि जब वह 17 साल के थे तब उनके पास खुद की क्रिकेट किट भी नहीं थी। जब वह अंडर-19 टीम में थे उस वक्त सुबह-शाम वह पैसों की कमी के कारण केवल मैगी खाकर काम चलाते थे।

इंडिया वर्सेज साउथ अफ्रीका: कोहली ने खेली करियर की सबसे बड़ी पारी 

उस समय उनके परिवार के लिए दो वक्त खाने का इंतजाम करना भी मुश्किल था. उनका यह संघर्ष तब तक चला जबतक उन्हें मुंबई इंडियंस की ओर से आईपीएल खेलने का मौका नहीं मिला। हार्दिक ने साल 2016 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 डेब्यू किया था. इसके बाद उसी साल उन्हें वनडे टीम में भी मौका मिल गया। भारतीय टीम ने उन्हें अगले ही साल श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट टीम में भी मौका दिया जिसका उन्होंने बखूबी फायदा उठाया। पंड्या आज तीनों फॉर्मेट में टीम का अहम हिस्सा हैं। 
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.