भूकंप के बाद के झटकों का पूर्वानुमान लगाएगी गूगल की कृत्रिम बुद्धिमत्ता प्रणाली

Samachar Jagat | Saturday, 01 Sep 2018 08:55:34 AM
Google's artificial intelligence system will forecast earthquake shocks

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

बोस्टन। अमेरिका स्थित हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों और गूगल ने दुनिया भर से भूकंप के डेटाबेस का विश्लेषण करने के लिए एक ऐसी आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (कृत्रिम बुद्धिमत्ता) प्रणाली का उपयोग किया है जिससे यह पूर्वानुमान लगाया जा सके कि भूकंप के झटके कहां-कहां आ सकते हैं। अमेरिका में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की एक वरिष्ठ शोधकर्ता फोएबे डीव्रीज ने कहा कि भूकंप आमतौर पर क्रमानुसार आता है।

विलय के साथ देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी बनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड

शुरुआती ''मुख्य झटके’’ के बाद अक्सर कई छोटे-छोटे झटके आते रहते हैं। हालांकि ये झटके आमतौर पर मुख्य झटके से छोटे होते हैं, लेकिन कई बार वे राहत व बचाव कार्यों में काफी हद तक बाधा पहुंचाते हैं। हालांकि बाद के झटकों के समय और आकार को स्थापित प्रयोगसिद्ध सिद्धांतों से समझकर उसका पता लगाया जाता है लेकिन इनके स्थानों की सटीक भविष्यवाणी करना अभी भी चुनौतीपूर्ण बना हुआ है।

गूगल तेज का नाम बदलकर हुआ Google Pay, लकी विजेताओं को गूगल दे रहा 1 लाख रुपए का इनाम

डीव्रीज ने गूगल पर एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा, ''हमनें गूगल के मशीन लर्निंग विशेषज्ञ के साथ मिलकर इस पर काम किया है कि क्या हम झटकों की गहराई के विश्लेषण से पता लगा सकते हैं कि बाद में झटके कहां आएंगे।’’ उन्होंने कहा, ''दुनियाभर में आये 118 से ज्यादा विशाल भूकंपों से संबंधित सूचनाओं के एक डेटाबेस के साथ हमने इसकी शुरुआत की।’’

सोनी ने लॉन्च किया एंड्रॉयड पाई वाला पहला स्मार्टफोन Xperia XZ3

टीम ने भूकंप के मुख्य झटके और बाद के झटकों की वजह से प्रभावित स्थानों पर स्थिर दबाव में आने वाले परिवर्तनों के बीच के संबंध का पता लगाने के लिए एक तंत्रीकीय नेटवर्क का प्रयोग किया है। डीव्रीज ने कहा कि यह प्रणाली उपयोगी पैटर्न की पहचान करने में सक्षम है।- एजेंसी

अगर आप भी परेशान है इंटरनेट की स्लो स्पीड से तो जियो यूजर्स इन तरीकों से बढ़ाएं स्पीड

 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.