हरे, पीले और लाल रंग से जान पाएंगे वॉट्सएप मैसेज की सच्चाई

Samachar Jagat | Tuesday, 31 Jul 2018 04:41:57 PM
The truth of Whatsapp message will be known from green, yellow and red color

टेक डेस्क। वॉट्सएप पर फर्जी खबरों पर रोक लगाने के लिए कंपनी ने प्रयास शुरू कर दिए है। यूजर्स की सुविधा के लिए कई तरह के बदलाव भी किए जा रहे है। अब कंपनी ऐसा एप बनाने वाली है जिससे वॉट्सएप पर भेजे जाने वाले मैसेज की सच्चाई का पता चल पाएगा। इतना ही नहीं यूजर्स को रंगों से मैसेज के फेक और सही होने का पता चलेगा। इसके लिए आईआईटी की एक पूरी टीम काम करेगी। इस तरह के फेक मैसेज के बीच कोई फोटो, लिंक या फिर कोई शब्द भी हो सकता है।

वॉट्सएप पर आने वाले मैसेज की सच्चाई जानने के लिए 3 रंग काम करेंगे। जैसा की हरा रंग हमेशा से ही पॉजीटिव का संकेत होता है। अगर किसी यदि किसी यूजर को एक मैसेज आता है तो वहां पर कलर कोड काम करेगा। अगर एप में हरा रंग होगा तो इसका मतलब है कि मैसेज फेक नहीं है एकदम सही है। वहीं एप में लाल रंग आता है तो इससे पता चलता है कि यह मैसेज फर्जी है। वहीं पीले रंग का मतलब सिस्टम इस मेसेज को डीकोड नहीं कर पाया।

आपको बता दें कि फर्जी खबरों पर लगाम लगाने के लिए वॉट्सएप पर जल्द ही नया फीचर आने वाला है। इसके बाद कोई भी ग्रुप में मैसेज फॉरवर्ड करने पर रोक लगाई जाएगी। वॉट्सएप पर शेयर किए जाने वाले मेसेज, विडियोज़ और फोटोज़ को फॉरवर्ड करने के लिए एक लिमिट सेट करेगा। इसके बाद अगर एक ही अकाउंट से एक ही मैसेज 5 बार से ज्यादा भेजा गया तो उस पर रोक लग जाएगी। अगर आप 5 बार से अधिक उस मैसेज भेजेंगे तो 4 बार तो वह फॉर्वरर्ड हो जाएगा लेकिन उसके बाद फॉरवर्ड का बटन ही शो नहीं होगा। इसके लिए क्विक फॉरवर्ड बटन दिया जाएगा। वॉट्सएप एक में 5 चैट्स के लिए लिमिट टेस्ट करेगा। जैसे ही लिमिट क्रॉस होगी वॉट्सएप पर उस मेसेज को फॉरवर्ड करने का ऑप्शन को डिसेबल हो जाएगा।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.