मकर संक्रांति : क्या आपने देखे हैं ये अनोखे पतंग संग्रहालय

Samachar Jagat | Sunday, 14 Jan 2018 11:43:27 AM
Makar Sankranti: Have you seen this unique kite museum?

भारत, चीन, इंडोनेशिया, थाइलैंड, अफगानिस्तान, मलेशिया जापान और अन्य एशियाई देशों तथा कनाडा, अमेरिका, फ्रांस, स्विटजरलैंड,हालैंड, इंगलैंड आदि देशों में पतंग उड़ाने की परंपरा लंबे समय से चली आ रही है। पतंग उडान के साथ ही कई जगहों पर पतंगों के अनेक संग्रहालय भी बनाए गए हैं जो पर्यटकों को खासा लुभाते हैं। आइए जानते हैं कुछ खास पतंग संग्रहालयों के बारे में ........

भगवान श्रीकृष्ण ने इस छोटी सी चीज को क्यों दिया इतना महत्व

विश्व का सबसे बड़ा पतंग संग्रहालय :-

जापान का थिरोन ओजोको म्यूजियम विश्व का सबसे बड़ा पतंग संग्रहालय है। यहां पतंगों की अनेक विलक्षण आकृतियां हैं। कहीं अबाबेल पक्षियों की हूबहू वाली आकृति है तो कहीं पवन चक्की का भ्रम पैदा करने वाले नमूने। ज्यादातर स्थानीय पतंगों पर आकर्षक रंग के मुखौटे बने होते हैं। संग्रहालय की एक रोचक बात यह है कि यहां आप पतंगे बनाना सीख सकते हैं। यदि कोई दिक्कत हो तो यहां मौजूद प्रशिक्षकों की मदद ली जा सकती है, जापान के थिरोन में हर वर्ष जून में पतंगोत्सव का आयोजन किया जाता है। नाकानोगूजी नदी के दोनों किनारों पर इस खेल का आयोजन किया जाता है।

आज भी अनसुलझे हैं तिरुपति बालाजी मंदिर के ये रहस्य

चीन का पतंग संग्रहालय :-

चीन के वेइफांग में 13000 वर्ग फुट क्षेत्र में बना पतंग संग्रहालय स्थापित है। इस संग्रहालय को देखकर ऐसा लगता है कि मानो कोई दैत्य आसमान में उड़ रहा है। संग्रहालय में पतंगों के अलावा तितलियों, चिड़ियों और कीटों की आकृतियां हैं। वर्ष 1984 में यहीं पर पहला अंतरराष्ट्रीय पतंगोत्सव हुआ था। इसलिए इसे पतंगों की राजधानी भी कहा जाता है। 

इस राक्षस की वजह से यहां पर मिलता है पितरों को मोक्ष!

अहमदाबाद का पतंग संग्रहालय :-

कलात्मक पतंगों का संग्रह करने के मामले में भारत भी पीछे नहीं है। अहमदाबाद के संग्रहालय में देश-विदेश की कई बहुमूल्य पतंगे संग्रहीत हैं। इनमें ज्यामितीय आकृति का सहारा लेकर करतब दिखाते पशु-पक्षियों की आकृति वाले चित्र.पतंगों पर बेलबूटे का संयोजन किया हुआ है। संग्रहालय को देखकर प्रसिद्ध फिल्मकार श्याम बेनेगल ने कहा था कि यह सौन्दर्य का अछ्वूत नमूना है। अमेरिकी चित्रकार बोरिस ने कहा था कि यह संग्रहालय मानो आकाश में उड़ता हुआ प्रतीत होता है।

फ्रांस में पंतगों की लोकप्रियता :-

फ्रांस में पंतगों की लोकप्रियता को देखते हुए वहां एक मासिक पत्रिका का प्रकाशन होता है। काईट पैन नामक इस पत्रिका को श्रेष्ठ प्रकाशन के लिये काइट बेटफोर्ड पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। इस पत्रिका में दुनिया भर के पतंग बाजार,उन्हें उड़ाने और बनाने के तरीकों और पतंगों के अंतरराष्ट्रीय उत्सव आदि की कई रोचक जानकारियां दी जाती हैं।-एजेंसी

शास्त्रों के अनुसार क्यों नहीं लगाना चाहिए झाड़ू को पैर



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.