RTI से खुलासा, रद्द टिकटों से रेलवे ने 13.94 अरब रुपए कमाए

Samachar Jagat | Thursday, 02 Aug 2018 04:19:12 PM
Railways earn 13.94 billion rupees for disclosing tickets, disclosed by RTI

इंदौर। रेलवे को यात्री टिकटों की बिक्री के साथ टिकट निरस्त किए जाने से भी मोटी कमाई हो रही है। सूचना के अधिकार (आरटीआई) से पता चला है कि वित्तीय वर्ष 2017-2018 में टिकट रद्द किए जाने के बदले यात्रियों से वसूले गए प्रभार से रेलवे के खजाने में लगभग 13.94 अरब रुपए जमा हुए।

सावन मास के कृष्ण पक्ष की नागपंचमी आज, लोग पूरी श्रद्धा से कर रहे हैं नागों की पूजा

मध्यप्रदेश के नीमच निवासी सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने गुरुवार को पीटीआई-भाषा को बताया कि उन्हें रेल मंत्रालय के रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र (सीआरआईएस) के एक अफसर से आरटीआई के तहत दायर अपील पर यह जानकारी मिली है।

आरटीआई के तहत दिये गये जवाब में यह भी बताया गया है कि गत वित्तीय वर्ष के दौरान चार्ट बनने के बाद भी प्रतीक्षा सूची में ही रह गए यात्री टिकटों के निरस्त होने पर वसूले गये शुल्क से रेलवे ने 88.55 करोड़ रुपए की कमाई की। गौड़ ने बताया कि उन्होंने आरटीआई के तहत नौ अप्रैल को सीआरआईएस को अर्जी भेजकर रेलवे से विभिन्न राजस्व मदों में ब्योरा चाहा था।

लेकिन इस आवेदन पर उन्हें दो मई को केवल यह जानकारी दी गई कि वित्तीय वर्ष 2017-2018 में अनारक्षित टिकटिंग प्रणाली (यूटीएस) के तहत बुक यात्री टिकटों को रद्द कराए जाने से रेलवे ने 17.14 करोड़ रुपए का राजस्व अर्जित किया।

भगवान शिव ने समुद्र में फेंका अपना तेज, उत्पन्न हुआ उनका ये सबसे बड़ा शत्रु

उन्होंने बताया कि सीआरआईएस से अधूरी सूचना मिलने पर उन्हें आरटीआई के तहत अपील दायर करनी पड़ी। इस अपील का निपटारा होने पर उन्हें रद्द टिकटों पर शुल्क वसूली से रेलवे की मोटी कमाई के बारे में विस्तृत जानकारी मिली।

नागिन-3 की एक्ट्रेस का हुआ ब्वॉयफ्रेंड के साथ ब्रेकअप...इंस्टाग्राम से डिलीट की रोमांटिक तस्वीरें

फिल्म 'बाजार' के निर्देशक निखिल के साथ सैफ अली खान के विवाद की खबर का जानिए क्या है सच?



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.