छह बार की चैंपियन भारत को हराकर बांग्लादेश ने जीता एशिया कप

Samachar Jagat | Sunday, 10 Jun 2018 07:20:48 PM
Bangladesh won women's Asia Cup by defeating six times champion India

कुआलालंपुर। भारतीय महिला क्रिकेट टीम को आज यहां शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा जब बांग्लादेश ने फाइनल में छह बार के चैंपियन को हराकर पहली बार एशिया कप खिताब जीत लिया। 
भारतीय टीम के लिए यह टूर्नामेंट काफी शर्मनाक साबित हुआ जिसमें उसे बांग्लादेश की कमजोर टीम के खिलाफ एक हफ्ते में दो बार हार का सामना करना पड़ा। 

दक्षिण अफ्रीका ने पहले वनडे में इंग्लैंड को सात विकेट से हराया

टूर्नामेंट ने मिताली राज और झूलन गोस्वामी जैसी अनुभवी खिलाड़ियों की टी 20 प्रारूप में उपयोगिता पर भी सवालिया निशान लगा दिया है लेकिन उपयुक्त विकल्पों की कमी के कारण बीसीसीआई इन दोनों को टीम में रखने को बाध्य है। 

बांग्लादेश को मैच की अंतिम गेंद पर जीत के लिए दो रन की दरकार थी और जहानआरा आलम ने विरोधी कप्तान हरमनप्रीत कौर की गेंद को डीप मिडविकेट पर दो रन के लिए खेलकर अपनी टीम को 113 रन के लक्ष्य तक पहुंचा दिया। 

भारत की ओर से हरमनप्रीत ने 42 गेंद में 56 रन की पारी खेलने के अलावा 19 गेंद में दो विकेट चटकाए जबकि लेग स्पिनर पूनम यादव ने नौ रन देकर चार विकेट हासिल किए। भारत को हालांकि एक बार फिर अपनी लचर बल्लेबाजी का खामियाजा भुगतना पड़ा। भारतीय कप्तान हरमनप्रीत ने स्वीकार किया कि बल्लेबाजों ने टीम को निराश किया। 

एशियाई चैम्पियंस ट्रॉफी में भारतीय महिला हॉकी टीम हारी

टूर्नामेंट की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुनी गई हरमनप्रीत ने कहा, यह काफी दबाव वाला मैच था। हमें स्थिति के अनुसार बल्लेबाजी करनी चाहिए थी। हमारी बल्लेबाज धैर्य के साथ नहीं खेल पाए। विकेट से काफी मदद नहीं मिल रही थी। बांग्लादेश को श्रेय जाता है। खेल के सभी विभागों में आज वे शानदार थे।

बांग्लादेश की कप्तान सलमा खातून ने टाॅस जीतकर क्षेत्ररक्षण करने का फैसला किया जिसके बाद हरमनप्रीत को छोड़कर भारत की कोई बल्लेबाज विरोधी गेंदबाजों के सामने टिककर नहीं खेल पाई। हरमनप्रीत ने अपनी पारी में सात चौके मारे। 

ब्राजील को माना फीफा वर्ल्ड कप का प्रबल दावेदार

भारत का स्कोर एक समय 62 रन पर पांच विकेट था और अगर हरमनप्रीत एक छोर नहीं संभालती तो टीम 100 रन से कम पर सिमट सकती थी लेकिन अंत में नौ विकेट पर 112 रन बनाने में सफल रही। 
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.