....बर्थडे स्पेशल: पाक के खिलाफ सबसे तेज अर्धशतक लगा सबके होश उड़ा दिये थे कपिल ने

Samachar Jagat | Friday, 06 Jan 2017 10:10:03 AM
....बर्थडे स्पेशल: पाक के खिलाफ सबसे तेज अर्धशतक लगा सबके होश उड़ा दिये थे कपिल ने

नई दिल्ली। भारतीय टीम को पहला वनडे वर्ल्ड कप दिलाने वाले पूर्व कप्तान और महान ऑलराउंडर कपिल देव का आज जन्मदिन है। कपिल देव का जन्म 6 जनवरी 1959 को चंडीगढ़ में हुआ था। आज कपिल 58वां जन्मदिन मना रहे है। 

भारतीय टीम के इकलौता ऑलराउंडर जिससे पहले न तो टीम में कोई वैसा खिलाड़ी आया था और न ही अब तक आया है। वैसे टीम इंडिया में स्पिन ऑलराउंडर तो कई आए और अब भी हैं, लेकिन जब बात तेज गेंदबाज ऑलराउंडर की होती है, तो हमारे सामने एक ही नाम आता है वो है कपिल देव। कपिल देव ने अच्छे-अच्छे बल्लेबाजो के पसीने छुड़ाये है।  आइये जानते है कपिल देव के बारें में कुछ खास बाते-

टीम इंडिया को 1983 में पहला वनडे वर्ल्ड कप दिलाने वाले कपिल देव को भारत की निर्जीव पिचों पर विकेट निकालने में महारत हासिल थी, तभी तो वह एक समय टेस्ट मैचों में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाजों के बीच वर्ल्ड में नंबर एक थे। उन्होंने एक बार लगातार 4 छक्के जड़ करके टीम इंडिया को फॉलोऑन से बचा लिया था।
 
हेमिंग्स के ओवर में जड़ दिए लगातार छक्के...
बात भारत के 1990 के इंग्लैंड दौरे की है। लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर सीरीज का पहला टेस्ट खेला जा रहा था। इंग्लैंड ने भारतीय टीम के सामने पहली पारी में 653 रन बनाए थे। भारत को फॉलोऑन बचाने के लिए 454 रन चाहिए थे। भारत के 9 विकेट 430 रन पर ही गिर गए थे, जब कपिल देव का साथ दे रहे संजीव शर्मा शून्य पर ही आउट हो गए। अंतिम विकेट के रूप में बल्लेबाजी करने स्पिनर नरेंद्र हिरवानी आए, जिनका कोई विश्वास नहीं था। मतलब वह कभी भी आउट हो सकते थे। संयोग से स्ट्राइक कपिल देव के पास थी और सामने थे गेंदबाज एडी हेमिंग्स। भारत को फॉलोऑन टालने के लिए 24 रन चाहिए थे। कपिल ओवर की पहली दो गेंदों पर कोई रन नहीं लिया और अंतिम 4 गेंदों पर 4 शानदार छक्के जड़ कर सभी के हौश उड़ा दिए। इसी के साथ टीम इंडिया ने फॉलोऑन बचा लिया और जैसा कि डर था हिरवानी अगले ही ओवर में आउट हो गए। हालांकि फॉलोऑन बचने के बावजूद टीम इंडिया यह मैच 247 रन से हार गई, लेकिन कपिल देव की 75 गेंदों में खेली गई 77 रन की पारी अमर हो गई।

कपिल देव के बारे में अन्य खास बातें :
17 साल की उम्र में उन्होंने क्रिकेट में कदम रखा। कपिल देव ने टेस्ट करियर की शुरुआत पाकिस्तान के खिलाफ फैसलाबाद में 1978 में किया था। उन्होंने पहले तीन टेस्ट मैचों में 7 विकेट चटकाए थे।

उन्होंने ऑलराउंडर होने का सबूत उस समय दिया, जब उन्होंने इसी सीरीज के कराची में खेले गए तीसरे टेस्ट में पाकिस्तान के खिलाफ 33 गेंदों पर 2 छक्कों की मदद से भारत का सबसे तेज अर्धशतक लगाया। इस मैच में उन्होंने 48 गेंदों में 59 रन बनाए थे, जिसमें 8 चौके और 2 छक्के जड़े थे।

इसके बाद वेस्टइंडीज के खिलाफ उन्हें भारतीय धरती पर 17 विकेट मिले, जो भारतीय विकेटों के मिजाज के लिहाज से अच्छा प्रदर्शन था। इसके बाद उन्होंने इंग्लैंड की धरती पर उसी के खिलाफ 16 विकेट झटके।

कपिल को असली पहचान 1979 में ऑस्ट्रेलिया के साथ खेलते हुए मिली, जब उन्होंने 6 टेस्ट मैचों में 28 विकेट चटका दिए। इसके बाद पाकिस्तान के खिलाफ भारत में ही 32 विकेट लेकर तहलका मचा दिया।

कपिल ने महज 21 वर्ष और 27 दिन की आयु में 1000 रन और 100 टेस्ट विकेट पूरा कर दुनिया के सबसे युवा खिलाड़ी बन गए। उन्होंने 2000 रन और 200 विकेट का डबल भी सबसे कम उम्र में ही पूरा किया।

कपिल देव की कप्तानी में ही भारत ने पहली बार वनडे वर्ल्ड कप, 1983 जीता था। उनकी कप्तानी में टीम इंडिया ने फाइनल में दो बार की विजेता वेस्टइंडीज जैसी मजबूत टीम को अप्रत्याशित रूप से हराया था। कपिल की कप्तानी में ही टीम इंडिया ने टेस्ट में 1986 में लॉर्ड्स में पहली टेस्ट जीत दर्ज की थी।

1983 वर्ल्ड कप में जिम्बाब्वे के खिलाफ 17 रन पर पांच विकेट गिर गए थे। कपिल देव ने इस मैच में 175 रन की ऐतिहासिक पारी खेली थी। कप्तान कपिल देव ने सैय्यद किरमानी के साथ नौवें विकेट के लिए नाबाद 126 रनों की साझेदारी निभाई थी, जिसमें किरमानी का योगदान 24 रन का था।
कपिल देव ने भारतीय टीम की कप्तानी 1982 में संभाली थी। कपिल देव ने 131 टेस्ट में 23 बार पारी में पांच विकेट लिए थे, जिसे हाल ही में रविचंद्रन अश्विन ने पार किया था।

कपिल देव ने 131 टेस्ट मैचों में 434 विकेट लिए थे और एक समय वह वर्ल्ड में टेस्ट में सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे। बाद में उनको कर्टनी वॉल्श, मुथैया मुरलीधरन, शेन वॉर्न, अनिल कुंबले जैसे गेंदबाजों ने पीछे छोड़ा।

साल 1999 में उन्होंने टीम इंडिया के कोच पद की कमान भी संभाली थी और 2000 तक इस पद पर रहे। उनके क्रिकेट में योगदान को देखते हएु 24 सितंबर, 2008 को भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल का दर्जा दिया गया था।

चर्चा में रही कपिल की लव स्टोरी
कपिल का नाम जब बॉलीवुड एक्ट्रेस से जुड़ा था। अपने दौर में टीम को बुलंदियों तक पहुंचाने वाले इस स्टार क्रिकेटर की नजरें उस वक्त की खूबसूरत एक्ट्रेस सारिका से मिली थीं। 

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो उस समय के सबसे सफल क्रिकेट कपिल अपने करियर के शुरुआती दौर में एक्ट्रेस सारिका के करीब आए थे।

बॉलीवुड की खूबसूरत एक्ट्रेस कई बार कपिल के साथ भी देखी गई और कई बार वे उनसे चंडीगढ़ मिलने भी जाया करती थीं।

ऐसी अफवाहें भी थीं कि कपिल कई बॉलीवुड पार्टीज में सारिका के साथ शामिल होते थे। दोनों के ब्रेकअप के बाद रोमी भाटिया कपिल के करीब आईं जिनसे कपिल देव ने शादी। अंतत: कपिल देव ने रोमी से 1980 में शादी कर ली।

रोमी के साथ अफेयर के दौरान भी सारिका दोबारा कपिल की जिंदगी में लौटी थीं। हालांकि न तो कपिल ने और न ही सारिका ने ऐसे किसी भी अफेयर का कभी जिक्र किया।
 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष
Loading...

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.