केरल में 77 हजार टावर और 1300 टेलीफोन एक्सचेंज चालू

Samachar Jagat | Tuesday, 21 Aug 2018 11:17:38 AM
77 thousand towers and 1300 telephone exchanges On in Kerala

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। दूरसंचार विभाग ने बाढग्रस्त केरल में संचार व्यवस्था को पटरी पर लाते हुए 77 हजार टावरों और लगभग 1300 टेलीफोन एक्सचेंजों को चालू कर दिया है। कैबिनेट सचिव पी के सिन्हा की अध्यक्षता में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति की सोमवार को यहां लगातार पांचवें दिन बैठक हुई जिसमें बाढ से बेहाल राज्य की स्थिति तथा वहां चलाये जा रहे राहत बचाव अभियानों की समीक्षा की गई। बैठक में जानकारी दी गयी कि राज्य में बाढ के कारण चरमरायी संपर्क और संचार व्यवस्था को बहाल कर दिया गया है। यह निर्देश दिया गया कि राज्य में जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री और दवा आदि की आपूर्ति निरंतर जारी रहना चाहिए।

किसानों की आय दोगुनी करने के लिए कम संसाधनों का प्रयोग कर उपज बढ़ाने की जरूरत: नीति आयोग

केरल के मुख्य सचिव ने भी बैठक में वीडियो कांफ्रेन्स के जरिए हिस्सा लिया। उन्होंने बताया कि राज्य में बारिश में कुछ कमी आई है और बाढ का पानी धीरे-धीरे कम हो रहा है। दूर संचार विभाग ने राज्य के कुल 85 हजार टॉवरों में से 77 हजार को चालू कर दिया है। 13 टेलीफोन एक्सचेंजों को छोड़कर सभी 1407 एक्सचेंज काम कर रहे हैं। लापता लोगों का पता लगाने के लिए एक हैल्पलाइन नंबर 1948 शुरू किया गया है। उपभोक्ता मामलों के विभाग ने एक हजार टन दाल भेजी। स्वास्थ्य मंत्रालय ने 52 टन आपात दवाएं भेजी हैं और 20 टन और आज रात तक प्रभावित क्षेत्रों में पहुंच जाएगी।

मामूली 34 अंक की बढ़त के साथ खुला सेंसेक्स

बीस टन ब्लीचिंग पाउडर और कलोरिन की एक करोड गोलियां कल भेजी जाएंगी। बारह मेडिकल टीमों को भी तैयार रहने को कहा गया है। अभी तक किसी तरह की बीमारी फैलने का पता नहीं चला है। पेट्रोलियम मंत्रालय ने 12 हजार लीटर केरोसिन उपलब्ध कराया है। इसके अलावा रसोई गैस सिलेंडर और अन्य ईंधन भी भेजा जा रहा है। ऊर्जा मंत्रालय ने राज्य में बिजली वितरण नेटवर्क को चालू करने के लिए मीटर, तार और ट्रांसफार्मर जैसे उपकरण भेजे हैं। राज्य में बिजली का उत्पादन 2600 मेगावाट तक पहुंच गया है।

पशुओं के लिए 450 टन चारा भेजा गया है और उनकी दवाइयां भी भेजी जा रही हैं। रेलवे ने पर्याप्त मात्रा में पानी और अन्य राहत सामग्री नि:शुल्क ले जाने की पेशकश की है। मिल्क पाउडर भी पर्याप्त मात्रा में भेजा जा रहा है। बैठक में स्वास्थ्य, दूरसंचार ,उपभोक्ता मामले , ऊर्जा और पेट्रोलियम मंत्रालय के सचिवों के अलावा तीनों सेनाओं के वरिष्ठ अधिकारियों तथा अन्य बचाव एजेन्सियों के अधिकारियों ने हिस्सा लिया।-एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.