सात वर्षीय एचआईवी पीडि़त बच्चे के साथ बालगृह के गार्ड ने कई बार किया कुकर्म और अब...

Samachar Jagat | Wednesday, 14 Nov 2018 12:30:11 PM
security guards acquitted of HIV victim's Unnatural rape charges

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। एक एचआईवी पीडि़त सात साल के बच्चे के साथ बार-बार दुष्कर्म के एक मामले में कोर्ट ने आरोपी को बरी कर दिया है। मीडिया रिपोट्र्स से प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को बालगृह के एक सुरक्षा गार्ड को एचआईवी पीडि़त सात वर्षीय बच्चे से बार-बार अप्राकृतिक दुष्कर्म के आरोप से बरी कर दिया और कहा कि स्थिति एक अनसुलझी पहेली रही।


प्रेमी ने प्रेमिका के साथ किया ऐसा घिनौना काम फिर कलयुगी पिता ने...

न्यायमूर्ति सी हरि शंकर ने निचली अदालत के उस फैसले को पलट दिया जिसमें उसने व्यक्ति को 10 वर्ष की सजा सुनाई थी। अदालत ने कहा है कि उसे ऐसे अनसुलझे अपराध के लिए दोषी ठहराना ‘न्याय को उपहास का विषय बनाना’ होगा। उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के फैसले के खिलाफ व्यक्ति की अपील मंजूर करते हुए कहा है कि इस अदालत का विचार है कि वर्तमान मामले में अभियोजन द्वारा पेश सबूत, जिस पर अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ने भरोसा किया वह अपीलकर्ता के खिलाफ यह दोष साबित करने के लिए अपर्याप्त है कि उसने बच्चे का यौन उत्पीडऩ किया।

बस कंडक्टर ने महिला होमगार्ड का किया यौन उत्पीडऩ, विरोध करने पर की पिटाई

उच्च न्यायालय ने अपने 69 पृष्ठों के अपने फैसले में कहा कि बच्चा एचआईवी संक्रमित था और झारखंड का रहने वाले आरोपी अमरदीप कुजूर की एचआईवी जांच नकारात्मक आई। अदालत ने निचली अदालत के इस रूख से असहमति जताई कि यह जरूरी नहीं कि एचआईवी वायरस यौन सम्पर्क के प्रत्येक मामले में एक साथी से दूसरे में जाए।

पुलिस को देख ट्रेन से उतरकर भाग रहे एक व्यक्ति से दो लाख रुपए जब्त

बच्चे ने आरोप लगाया था कि बालगृह में उसका कई बार यौन उत्पीडऩ किया गया। बच्चे का पिता जेल में था और उसकी मां की मृत्यु एचआईवी से हो गई थी। उसकी देखभाल करने के लिए कोई नहीं था इसलिए उसे बाल गृह भेज दिया गया था। व्यक्ति ने दावा किया था कि उसने पीडि़त का यौन उत्पीडऩ नहीं किया।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.