नायडू बोले, हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति बनाए रखना महत्वपूर्ण 

Samachar Jagat | Friday, 10 May 2019 02:03:45 PM
Naidu says, keeping peace in the Hind-Pacific region is important

हनोई। भारत और वियतनाम ने शुक्रवार को राष्ट्रीय संप्रभुता एवं अंतरराष्ट्रीय विधियों के पालन के माध्यम से हिद प्रशांत क्षेत्र को शांतिपूर्ण एवं समृद्ध बनाने की महत्त्ता को दोहराया। उपराष्ट्रपति वैंकेया नायड्र की अपने वियतनामी समकक्ष से द्बिपक्षीय एवं बहुपक्षीय सहयोग के कई बिंदुओं पर हुई बातचीत में यह बात सामने आई।

आईएनएस विराट को सुरक्षा कारणों से लक्षद्वीप में रखा गया था : हबीबुल्ला

नायडू इस दक्षिणपूर्वी एशियाई देश की चार दिवसीय यात्रा पर आए हुए है। उन्होंने कहा कि दोनों देश के मध्य सशक्त द्बिपक्षीय संबंध परस्पर विश्वास, समझ, क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर विचारों का अभिसरण बना हुआ है। नायडू ने कहा कि मैं वियतनाम आकर अति प्रसन्न हूं, एक सभ्यतागत मित्र एवं विश्वसनीय साझीदार, भारत की पूर्व की ओर देखो नीति का एक रणनीतिक स्तंभ और आसियान में हमारा विशिष्ट वार्ताकार। विदेश मंत्रालय के यहां जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई है।

इसके अनुसार उपराष्ट्रपति और उनके वियतनामी समकक्ष दांग थी नगोक थिन्ह ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र को राष्ट्रीय संभुप्रता एवं अंतरराष्ट्रीय विधियों के अनुपालन के आधार पर एक शांतिपूर्ण एवं समृद्ध हिद-प्रशांत क्षेत्र के विकास की महत्ता को दोहराया। विदित हो कि हिंद-प्रशांत एक जैव भौगोलिक क्षेत्र है और इसमें हिंद महासागर और मध्य एवं पश्चिमी प्रशांत महासागर सहित दक्षिण चीन सागर सम्मिलित हैं।

राहुल गांधी बोले-आप पार्टी का नारा था, दिल्ली में CM केजरीवाल और देश में PM मोदी

चीन का दावा है कि संपूर्ण दक्षिण चीन सागर उसका है जबकि ब्रुनेई, मलेशिया और फिलीपींस, वियतनाम और ताईवान भी इसके किनारे बसे हैं। विदेश मंत्रालय के मुताबिक दोनों नेताओं के मध्य बातचीत विस्तार एवं उत्पादक रही।नायडू ने कहा कि हमारी चर्चाओं में द्बिपक्षीय और बहुपक्षीय सहयोग की पूरी श्रृंखला सम्मिलित हुई। हम रक्षा और सुरक्षा, परमाणु ऊर्ज़ा के शांतिपूर्ण प्रयोग और बाह्य अंतरिक्ष, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, तेल एवं गैस, नवीकरणीय ऊर्ज़ा, अवसंरचना विकास, कृषि और नवाचार आधारित क्षेत्रों में अपने द्बिपक्षीय सहयोग को और सशक्त बनाने पर सहमत हुए हैं।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि हमारा द्बिपक्षीय व्यापार पिछले साल लगभग 14 अरब अमेरिकी डॉलर था जो तीन साल पहले के लगभग 7.8 अरब अमेरिकी डॉलर से दोगुना हो गया है। मुझे विश्वास है कि हम 2020 तक 15 अरब अमेरिकी डॉलर के अपने द्बिपक्षीय व्यापार लक्ष्य को प्राप्त कर लेंगे। उपराष्ट्रपति नायडू ने अपने वियतनामी समकक्ष को भारत आने का निमंत्रण दिया।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.