राम नाईक ने कहा, ऐतिहासिक नीतिगत सुधारों को आगे बढ़ा रहा है भारत

Samachar Jagat | Wednesday, 13 Feb 2019 01:29:37 PM
Ram Naik said, India is pushing historical policy reforms

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

ग्रेटर नोएडा (उत्तर प्रदेश)। भारत ने घरेलू उत्पादन बढ़ाने तथा आयात घटाने के मकसद से तेल एवं गैस क्षेत्र में ऐतिहासिक सुधार आगे बढ़ाए हैं। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने मंगलवार को पेट्रोटेक सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह बात कही। राज्यपाल ने कहा कि इसी के साथ देश सुगम तरीके से स्वच्छ ईंधन के रास्ते में आगे बढ़ा है। राम नाईक डेढ़ दशक पहले पेट्रोलियम क्षेत्र के ‘स्वर्णिम काल’ में इस विभाग के प्रमुख रह चुके हैं। उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन-एक सरकार में 1999 से 2004 के दौरान तेल एवं गैस संपत्तियों का अधिग्रहण, खोज लाइसेंसिंग दौर, सीएनजी और एथेनॉल का इस्तेमाल जैसी पहल को आगे बढ़ाया था। अब देश की ऊर्जा सुरक्षा के लिए इसमें सुधार किया जा रहा है। 


पेट्रोटेक सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित करते हुए नाईक ने पुरानी बातों को याद किया। उन्होंने कहा कि यह वह समय था जब देश के इतिहास में पहली बार किसी ने पूरे पांच साल तक पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय की अगुवाई की। पहली बार यह मंत्रालय 1962 में बना था। 

उन्होंने कहा कि 1999 से 2004 के दौरान तेज सुधार का मंत्र आगे बढ़ाया गया। इसका मकसद बिना बाधा स्वच्छ ईंधन की आपूर्ति सुनिश्चित करना था। उन्होंने कहा, ‘‘कुछ लोग उस दौर को पेट्रोलियम क्षेत्र का स्वर्ण युग भी कहते हैं। नाईक ने उस दौर को याद करते हुए कहा कि राजग एक ने विदेशी बाजार में उतरने जैसी कई साहसी पहल कीं। रूस और सूडान में प्रमुख संपत्तियों का अधिग्रहण किया गया। उन्होंने कहा कि कैसे उस समय इस कदम की आलोचना हुई और कहा गया कि ‘कबाड़’ खरीदा जा रहा है।

लेकिन वाजपेयी ने किसी की परवाह नहीं की और इस सौदों को मंजूरी दी। राज्यपाल ने कहा कि उसके बाद से भारत अर्जेंटीना से न्यूजीलैंड तक ऊर्जा आपूर्ति प्राप्त करने के लिए 21 देशों में उतर चुका है। एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.