यमुना नदी और प्रकृति संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय वर्चुअल समिट 2020 का आयोजन 28 जुलाई को

Samachar Jagat | Monday, 27 Jul 2020 12:10:41 PM
International Virtual Summit 2020 for Yamuna River and Nature Conservation organized on 28 July

- हरि यमुना सहयोग समिति के प्रोजेक्ट हरि यमुना की ओर से किया जाएगा आयोजित

हरि यमुना सहयोग समिति, पावंटा साहिब (एचपी) के प्रोजेक्ट हरि यमुना द्वारा एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय वर्चुअल समिट 2020 का आयोजन किया जा रहा है। ये समिट हिन्दू यूनिवर्सिटी ऑफ़ अमेरिका, वन विभाग हिमाचल प्रदेश, पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित किया जा रहा है। 28 जुलाई को विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस के उपलक्ष में ये समिट 'एनवायरनमेंट प्रोटेक्शन कंसर्नस एंड प्रॉपर इम्प्लीमेंटेशन ऑफ़ एग्जीस्टिंग एनवायर्नमेंटल लॉज़ ऑफ़ इंडिया' विषय पर आधारित रहेगी।

समिट में मुख्य वक्ता के तौर पर हरि यमुना सहयोग समिति के अध्यक्ष और सिक्किम, उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायधीश श्री प्रमोद कोहली होंगे। समिट की शुरुआत पहले सेशन 'प्रकृति के संरक्षण के लिए सामुदायिक भागीदारी' विषय पर चर्चा के साथ होगी। सेशन में हरियाणा के आरपीएफ यमुनानगर, कमांडो बटालियन, वरिष्ठ कमांडिंग अधिकारी, आईआरपीएफएस श्री मोहम्मद शदन जेब खान अपने विचार साझा करेंगे। वहीं दूसरे सेशन 'अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण कानून में विकास और प्राचीन भारतीय सिद्धांतों के साथ संबंध' विषय पर हिन्दू यूनिवर्सिटी ऑफ़ अमेरिका के बोर्ड ऑफ़ ट्रस्टीज के चेयरमैन, पद्मभूषण डॉ. वेद पी. नंदा चर्चा करेंगे।


साथ ही तीसरे सेशन में जयपुर, आयकर उपायुक्त, आईआरएस श्रीमती पूनम राय 'पर्यावरणीय कारणों के लिए कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी की प्रभावशीलता' विषय पर अपने सुझाव साझा करेंगी। चौथे सेशन में 'प्रकृति संरक्षण में सामाजिक वानिकी की भूमिका' विषय पर पांवटा साहिब हिमाचल प्रदेश के प्रभागीय वन अधिकारी, आईएफएस, श्री कुणाल अंगरीश अपने विचार व्यक्त करेंगे। शाम 6:30 से 8:30 बजे तक लगभग दो घंटे चलने वाले इस समिट का आखरी सेशन में सवाल जवाब होंगे। जहां सभी मेंबर्स अपने भीतर उत्पन्न हुए मनोभावों को साझा करते हुए सवालों के उत्तर जान सकेंगे।

हरि यमुना सहयोग समिति के बारे में -

हरि यमुना सेवा समिति पांवटा साहिब, जिला सिरमौर हिमाचल प्रदेश में गठित सोसाइटी है जो नदियों की सफाई, वृक्षारोपण, प्रदुषण नियंत्रण और यमुना नदी के संरक्षण के लिए विशेष रूप से कार्यरत हैं। सोसाइटी का नेतृत्व सिक्किम, उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायधीश जस्टिस श्री प्रमोद कोहली करते हैं और इनका मिशन 'यमुना की कायाकल्प कर पुर्नजीवित' करना है। सोसाइटी की ओर से एक बड़ी पहल के रूप में पिछले वित्तीय वर्ष में सोसाइटी ने वन विभाग, स्थानीय नागरिक और अन्य सरकारी अधिकारियों के साथ मिलकर पांवटा साहिब हिमाचल प्रदेश में नदी यमुना के किनारे और कलेश्वर महादेव मंदिर जिला यमुनानगर हरियाणा में कदम्ब और अन्य प्रजातियों के 7300 पौधरोपण किए थे। इसके अलावा सोसाइटी की टीम के सदस्यों ने पांवटा साहिब हिमाचल प्रदेश और कुदसिया घाट, दिल्ली में अन-प्लास्टिक यमुना के लिए एक अभियान भी चलाया था। सोसाइटी की ओर से पहले अंतर्राष्ट्रीय समिट 21 जून 2020 अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष में आयोजित किया गया था। जिसमें देश विदेश के लगभग 200 लोगों ने भाग लिया था। मुख्य वक्ताओं के रूप में जस्टिस प्रमोद कोहली, राष्ट्रिय आयुर्वेदिक संस्थान जयपुर के अध्यक्ष डॉ. संजीव शर्मा एवं नीदरलैंड महृषि महेश वैदिक विश्वविद्यालय के डायरेक्टर राजा लुइस ने समिट में सम्बोधित किया। जहां योग दिवस के उपलक्ष में देश-विदेश से लोगों ने 17,500 पौधों को प्रायोजक किया। जिसके बाद 1 जुलाई से ये सभी पौधों का रोपण यमुना किनारे आरम्भ हो चुका है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.