जन्मदिन विशेष: रूमानी गीतों से श्रोताओं को दीवाना बनाया महेन्द्र कपूर ने

Samachar Jagat | Wednesday, 09 Jan 2019 09:51:09 AM
Birthday Special: The songs made by lyrics by Mahendra Kapoor

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

मुंबई। बॉलीवुड में महेन्द्र कपूर का नाम एक ऐसे पाश्र्वगायक के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने लगभग पांच दशक तक अपने रूमानी गीतों से श्रोताओं के दिलों पर अमिट छाप छोड़ी है। महेन्द्र कपूर का जन्म 09 जनवरी 1934 को अमृतसर में हुआ था। बचपन के दिनों से ही उनका रूझान संगीत की ओर था। उन्होंने संगीत की अपनी प्रारंभिक शिक्षा हुस्नलाल-भगतराम, उस्ताद नियाज अहमद खान, उस्ताद अब्दुल रहमान खान और पंडित तुलसीदास शर्मा से हासिल की।


मोहम्मद रफी से प्रभावित होने के कारण वह उन्हीं की तरह पाश्र्वगायक बनना चाहते थे। अपने इसी सपने को पूरा करने के लिये वह मुंबई आ गये। वर्ष 1958 में प्रदर्शित व्ही शांताराम की फिल्म नवरंग में उन्होंने सी. रामचंद्र के संगीत निर्देशन में ‘‘आधा है चंद्रमा रात आधी’’ से बतौर गायक के रूप में अपनी पहचान बना ली। इसके बाद महेन्द्र कपूर ने सफलता की नयी ऊंचाइयों को छुआ और एक से बढक़र एक गीत गाकर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.